Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जीएसटीः एंटी प्रॉफिटियरिंग के दायरे में बिल्डर

प्रकाशित Sat, 16, 2017 पर 14:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जीएसटी का फायदा ग्राहकों को नहीं पहुंचाया तो बिल्डरों पर भी एंटी प्रॉफिटियरिंग का डंडा चल सकता है। सरकार ने एक विज्ञापन जारी करके साफ किया है कि जीएसटी में बिल्डरों को कई तरह के टैक्स से राहत मिल गई है। कंस्ट्रक्शन मटिरियल पर सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी, वैट और एंट्री टैक्स की बजाय अब सिर्फ जीएसटी लगता है। पहले ये सभी टैक्स फ्लैट की कीमत में जोड़कर ग्राहकों से वसूले जाते थे। अब इस बचत का फायदा घर खरीदार को मिलना चाहिए। बिल्डर इस बचत को घर की कीमत घटाकर ग्राहक तक पहुंचाएगा। ऐसा ना करके अगर बिल्डर गलत मुनाफा बनाता है तो उस पर जीएसटी कानून के तहत मुनाफाखोरी का मामला चल सकता है। सरकार ने साफ किया है कि बिल्डर जीएसटी के नाम पर ग्राहकों से ज्यादा रकम की मांग नहीं कर सकते हैं।


जेएलएल के नेशनल फर्म डायरेक्टर मोहम्मद असलम का मनाना है कि जीएसटी को लेकर बिल्डरों के बीच बहुत कंफ्यूजन है। बिल्डरों को खुद प्रकिया समझने में मुश्किलें आ रही हैं। बिल्डर जीएसटी के बाद कई तरह के ऑफर ला रहे हैं।