Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जीएसटी पर अभी बाकी है चुनौती!

प्रकाशित Wed, 11, 2017 पर 13:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कारोबारियों को राहत देने के लिए जीएसटी काउंसिल ने बड़े फैसले तो ले लिए हैं लेकिन तकनीकी रूप में इन्हें लागू करना एक बड़ी चुनौती बन गई है। लगातार दो दिन से संबंधित अधिकारियों के बीच घंटों बैठके हो रही हैं, ये चुनौती कितनी गंभीर हैं बता रहे हैं सीएनबीसी-आवाज़ के इकोनॉमिक पॉलिसी एडिटर लक्ष्मण रॉय -


जीएसटी काउंसिल के फैसले के बाद सभी कारोबारियों की तीन कैटेगरी होगी। 1.5 करोड़ रुपये सालाना टर्नओवर से कम और ज्यादा वालों की कैटेगरी होगी, जबकि कंपोजिशन स्कीम वालों की अलग कैटेगरी बनानी होगी। 1.5 करोड़ रुपये सालाना टर्नओवर से कम वालों की दो कैटेगरी होगी। इन दो कैटेगरी में 1.5 करोड़ रुपये सालाना टर्नओवर वाले वो कारोबारी शामिल होंगे जो हर महीने रिटर्न फाइल करते हैं और साथ ही 1.5 करोड़ रुपये सालाना टर्नओवर वाले वो कारोबारी भी शामिल किए जाएंगे जो हर तीन महीने पर रिटर्न फाइल करते हैं।


सालाना टर्नओवर 1.5 करोड़ रुपये से कम है, इसकी घोषणा कारोबारी करेंगे। साथ ही सरकार की ओर से 1.5 करोड़ रुपये का सालाना टर्नओवर वालों का पूरा आंकड़ा जुटाया जाएगा, लेकिन सरकार के लिए इसकी पड़ताल करना भी चुनौती भरा काम होगा।


यहां चुनौती ये भी है कि हर महीने रिटर्न फाइल करने वालों को हर तीन महीने वालों से अतिरिक्त आंकड़ा लेना होगा। वहीं हर महीने रिटर्न फाइल करने वालों को हर तीन महीने वालों से अतिरिक्त आंकड़ा लेकर जीएसटीआर 2 तैयार करना होगा, ऐसे में तीसरे महीने में जीएसटीआर 2 का मिलान करना बड़ी चुनौती होगी।