आवाज़ अनुमान: कैसे रहेंगे दिग्गजों के नतीजे

प्रकाशित Wed, 08, 2017 पर 15:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कल टाटा मोटर्स, अरबिंदो फार्मा और एचपीसीएल के नतीजे आने वाले हैं जिन पर बाजार की नजरें रहेंगी।


टाटा मोटर्स


दूसरी तिमाही के नतीजे कमजोर रहने की आशंका है। फॉरेक्स घाटे और मार्जिन पर दबाव से कंपनी का मुनाफा घट सकता है। जेएलआर का प्रदर्शन अच्छा रह सकता है। जेएलआर के वॉल्यूम में 10.5 फीसदी ग्रोथ का अनुमान है।


सीएनबीसी-आवाज़ के अनुमान के मुताबिक वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में टाटा मोटर्स का मुनाफा 66 फीसदी बढ़कर 1391 करोड़ रुपये हो सकता है। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में टाटा मोटर्स का मुनाफा 839 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में टाटा मोटर्स की आय 6 फीसदी बढ़कर 69985 करोड़ रुपये हो सकती है। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में टाटा मोटर्स की आय 65900 करोड़ रुपये रही थी।


अरबिंदो फार्मा


सीएनबीसी-आवाज़ का अनुमान है कि अमेरिका में रेनवेला के लॉन्च से अरबिंदो फार्मा को फायदा मिलेगा। बता दें कि जुलाई में रेनवेला (Renvela) को अमेरिका में लॉन्च किया गया है। अमेरिका में रेनवेला का 85-90 करोड़ डॉलर का बाजार है।


सीएनबीसी-आवाज़ के अनुमान के मुताबिक वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में अरबिंदो फार्मा का मुनाफा 15 फीसदी बढ़कर 695.7 करोड़ रुपये हो सकता है। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में अरबिंदो फार्मा का मुनाफा 605.6 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में अरबिंदो फार्मा की आय 12.4 फीसदी बढ़कर 4245 करोड़ रुपये हो सकती है। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में अरबिंदो फार्मा की आय 3775.5 करोड़ रुपये रही थी।


एचपीसीएल


सीएनबीसी-आवाज़ के अनुमान के मुताबिक दूसरी तिमाही में एचपीसीएल का जीआरएम 8.8-9 डॉलर प्रति बैरल रहने की उम्मीद है। रिफाइनिंग कारोबार का मजबूत प्रदर्शन संभव है। इंवेंट्री गेन होने से भी कंपनी को फायदा मिलेगा।


वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में एचपीसीएल का मुनाफा 3.4 गुना बढ़कर 3186 करोड़ रुपये हो सकता है। वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में एचपीसीएल का मुनाफा 924.7 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में एचपीसीएल की बिक्री 2 फीसदी बढ़कर 54360  करोड़ रुपये हो सकती है। वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में एचपीसीएल की आय 53384.8 करोड़ रुपये रही थी।