Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बीईंग ह्यूमन के लिए फंडिंग जुटाने में आई दिक्कतें: सलमान खान

प्रकाशित Mon, 13, 2017 पर 19:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बॉलीवुड के सुल्तान, बिग बॉस के भाई और एक बेहतरीन इंसान। हम बात कर रहे हैं सलमान खान की। साक्षात्कार में सीएनबीसी-आवाज़ के मैनेजिंग एडिटर, आलोक जोशी ने सलमान खान से की खास बातचीत।


बीईंग ह्यूमन पर बात करते हुए सलमान खान का कहना है कि ह्यूमन के पीछे की सोच मेरी नहीं बल्कि माता-पिता की थी। हमने सिर्फ ट्रस्ट बनाया है ताकि लोगों की मदद कर सकें। बीईंग ह्यूमन फाउंडेशन के लिए पहले फंडिंग जुटाने में बहुत दिक्कतें आई थी। लोगों को लगता था कि सलमान को फंड की जरूरत नहीं है। बस फिल्मों से पैसे आने पर निर्भर नहीं रह सकते थे।


उन्होंने आगे कहा कि 5 साल पहले बीईंग ह्यूमन क्लोदिंग लाइन शुरू की थी। लेकिन उससे पहले अपने पेंटिंग के शौक को एक बार फिर से शुरु किया और बीईंग ह्यूमन फाउंडेशन के लिए इस्तेमाल किया। आगे चलकर पेटिंग के शौक से कपड़ों पर पेंट करने का आइडिया आया, फिर कॉटन वर्ल्ड से साथ मिलकर बीईंग ह्यूमन शुरू की। बीईंग ह्यूमन से ब्लैक, सफेद, ग्रे टी-शर्ट बनाई। शुरुआत में करीब 5 हजार टी-शर्ट बिकीं थी। आगे चलकर फिर एमआरवीएल से फिर हाथ मिलाया।


बीईंग ह्यूमन-चैरिटी या बिजनेस? इस सवाल पर बात करते हुए सलमान खान ने कहा कि बिजनेस मॉडल से खास फायदा या नुकसान नहीं है। एमआरवीएल को 9 साल की लाइसेंसिंग है और एमआरवीएल सिर्फ कपड़े बनाता है। फिलहाल मैं बीईंग ह्यूमन का ब्रांड एम्बैसेडर हूं। बीईंग ह्यूमन की कामयाबी के लिए एमआरवीएल से हाथ मिलाया।
 
आगे के प्लान पर बात करते हुए सलमान खान ने कहा कि ब्रांड खुद ही अपना प्लान बनाएगा। टैक्स के बाद पैसा चैरिटी में जाता है। बीईंग ह्यूमन से मिले पैसों से लोगों की मदद करते हैं।


पिताजी अभी लोगों की मदद करते हैं? इस सवाल पर बात करते हुए सलमान ने कहा कि पिताजी सबकी बहुत मदद करते हैं, लेकिन कोई भी डोनेशन देने से पहले ध्यान से सोचते हैं। लोग चैरिटी के नाम पर पैसे कमाते हैं। चैरिटी करने को प्रोफेशन बना लिया है।


बीईंग ह्यूमन में आगे के प्लान पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि बीईंग ह्यूमन ने साइकिल लॉन्च की है। जिम एक्सेसरीज भी जल्द मिलेंगी। ज्वेलरी का बिजनेस भी शुरू करेंगे।


फिल्म इंडस्ट्री के रॉबिन हुड हैं? पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि जिसे जरूरत होती है उसकी मदद करता हूं। मेहनती लोगों का हमेशा साथ देता हूं, मेरी भी कई लोगों ने मदद की थी। जो मुझे मिला उसे बस लौटाना चाहता हूं।