Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

मल्टीनेशनल्स के दमदार शेयर जो करेंगे मालामाल

प्रकाशित Fri, 01, 2017 पर 14:59  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज आज आपके लिए लेकर आया है कुछ ऐसे दमदार स्टॉक्स जिनका कारोबार तो हिंदुस्तान में है लेकिन उनके प्रोमोटर विदेशी हैं। इसलिए हमने इन शेयरों के लिए फिरंगी शेयर जुमले का इस्तेमाल किया है। तो आइए जानते है कौन है वे दमदार फिरंगी शेयर जो आपको कर सकते है मालामाल।


व्हर्लपूल इंडिया


व्हर्लपूल इंडिया में प्रोमोटर व्हर्लपूल मॉरिशस का 75 फीसदी हिस्सा है। कंपनी रेफ्रिजरेटर, वॉशिंग मशीन, एसी बनाती है। साथ ही माइक्रोवेव और दूसरे घरेलू उपकरण भी बनाती है। व्हर्लपूल इंडिया में लगातार 3 तिमाही से वॉल्यूम में 10 फीसदी की ग्रोथ जारी है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 तक अपनी आय को दोगुना करने का लक्ष्य बनाया है।



बर्जर पेंट्स


बर्जर पेंट्स कंपनी में प्रोमोटर की 74.99 फीसदी हिस्सेदारी है। हालांकि प्रोमोटर्स में यूके पेंट्स के पास 50.11 फीसदी हिस्सा है। प्रोमोटर्स में जेनसन एंड निकॉल्सन एशिया का 14.49 फीसदी हिस्सा है। घरेलू पेंट मार्केट में कंपनी की 19 फीसदी हिस्सेदारी है। प्रीमियम प्रोडक्ट्स के जरिए कंपनी की आय बढ़ाने की योजना है।


हाइडलबर्ग सीमेंट


ये जर्मनी की हाइडलबर्ग सीमेंट की सब्सिडियरी कंपनी है। इसमें कंपनी के प्रोमोटर हाइडलबर्ग ग्रुप की 69.39 फीसदी हिस्सेदारी है। कंपनी ने अपनी सालाना उत्पादन क्षमता बढ़ाकर हाल ही में 54 लाख टन किया है। सीमेंट की मांग में रिकवरी के संकेत दिखाई दे रहे है और आगे इसके दाम भी बढ़ सकते हैं। कंपनी का फोकस अपनी कार्यक्षमता बढ़ाने पर है।


एसएमएल इसुजु


जापान की सुमिटोमो कॉर्प का 43.96 फीसदी हिस्सा है। कंपनी के पास जापान की इसुजु मोटर्स की 15 फीसदी हिस्सेदारी है। कंपनी हल्के और मझोले साइज के कमर्शियल व्हीकल बनाती है। स्कूल बस सेगमेंट में मांग बढ़ने से स्टॉक्स के वॉल्यूम बढ़ने की उम्मीद है। वहीं कंपनी कार्गो सेगमेंट में भी अपनी पकड़ मजबूत कर रही है। प्रोडक्ट और डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क का विस्तार कर रही है।


टिमकेन इंडिया


टिमकेन इंडिया में प्रोमोटर कंपनी टिमकेन सिंगापुर का 75 फीसदी हिस्सा है। बियरिंग्स और पावर ट्रांसमिशन पार्ट्स बनाती है। गियर ड्राइव, कपलिंग्स, बेल्ट और चेन बनाती है। कंपनी ने जुलाई 2017 में एबीसी बियरिंग्स का अधिग्रहण किया है। एबीसी में बियरिंग्स की खरीद से सीवी सेगमेंट में मार्केट शेयर बढ़ेगा। रेल और मेट्रो प्रोजेक्ट्स पर सरकार के फोकस से कंपनी को फायदा होगा।


आईटीडी सीमेंटेशन
 
थाईलैंड की इटालियन थाई डेवलपमेंट कंपनी का 51.63 फीसदी हिस्सा है। कंपनी हाइवे, पुल, फ्लाईओवर और बांध बनाने का काम करती है। हाल में कंपनी को कई बड़े प्रोजेक्ट्स मिले है। कंस्ट्रक्शन सेक्टर में आगे तेज ग्रोथ की उम्मीद है।


जिलेट


जिलेट में प्रोमोटर कंपनी प्रॉक्टर एंड गैंबल का 40.12 फीसदी हिस्सा है। कंपनी की वेला इंडिया हेयर कॉस्मेटिक्स की 20.34 फीसदी हिस्सेदारी है। कंपनी सेफ्टी रेजर और दूसरे पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स बनाती है। कंपनी का फोकस लागत घटाकर ऑपरेटिंग मुनाफे को बढ़ाने पर है। शेविंग प्रोडक्ट्स पर जीएसटी 28 फीसदी से घटकर 18 फीसदी होने से इसे फायदा मिलेगा।


गुजरात पीपावाव पोर्ट


प्रोमोटर कंपनी एपीएम टर्मिनल मॉरिशस का 43.01 फीसदी हिस्सा है। पीपावाव में पोर्ट डेवलपमेंट और ऑपरेट करने का कारोबार करती है। कंपनी का कुल 63 देशों में कंटेनर टर्मिनल कारोबार है। आगे वॉल्यूम और मार्केट शेयर बढ़ने की उम्मीद है।



गुडईयर इंडिया


प्रोमोटर कंपनी गुडईयर ओरिएंट का 74 फीसदी हिस्सा है। गुडईयर इंडिया, टायर बनाने वाली कंपनी है। 22 देशों में कंपनी के 48 प्लांट्स है। भारत में 90 सालों से कारोबार कर रही है। कंपनी का डिविडेंड देने का अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड है। रीप्लेसमेंट डिमांड बढ़ने और रबर के दाम घटने से इसे फायदा मिलेगा। नोटबंदी के बाद चीन के टायर की बिक्री घटने से फायदा मिलेगा।