Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

बाजार में गहरा सकती है गिरावट, ग्लोबल संकेत होंगे अहम

प्रकाशित Mon, 04, 2017 पर 11:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मार्केट एक्सपर्ट उदयन मुखर्जी का कहना है कि फिलहाल बाजार में दबाव जारी रहने की आशंका है। वित्तीय घाटा बढ़ने की आशंका में बाजार में दबाव बढ़ सकता है। अक्टूबर में जीएसटी कलेक्शन भी कम रहा, जो बाजार के लिए चिंता का विषय है। इस स्थिति में ब्याज दरों में कटौती मुश्किल है, बल्कि ब्याज दरों में बढ़ोतरी की गुंजाइश ज्यादा है। ब्याज दरों में बढ़ोतरी होने पर बाजार पर दबाव बढ़ने की पूरी उम्मीद है।


उदयन मुखर्जी के मुताबिक अगर ग्लोबल बाजारों में तेजी का माहौल बनता है तो फिर निफ्टी में 10100 का स्तर टूटना मुश्किल है। हालांकि ग्लोबल बाजारों में दबाव बनता है तो घरेलू मोर्चे पर बुरी खबरों का असर भारतीय बाजारों पर साफ देखने को मिल सकता है। घरेलू मोर्चे पर बुरी खबरें आती हैं तो निफ्टी के लिए 10100 का सपोर्ट स्तर टूटने की आशंका है।


उदयन मुखर्जी ने कहा कि बाजार ये अनुमान लगा रहा है कि गुजरात में बीजेपी की जीत सुनिश्चित है। हालांकि, अगर गुजरात में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ता है तो फिर बाजार को बड़ा झटका लग सकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस बार बजट के लोकलुभावन रहने की उम्मीद है। उदयन मुखर्जी की सलाह है कि साल के अंत में मुनाफावसूली कर लेनी चाहिए। दरअसल ग्लोबल बाजार में तेजी का माहौल नहीं बना तो निफ्टी 9700-9800 तक टूट सकता है।