Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पहरेदार की पहल, बजाज आलियांज ने सुधारी गलती

प्रकाशित Sat, 06, 2018 पर 17:21  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर आने वाला टीवी का सबसे बड़ा कंज्यूमर शो पहरेदार ग्राहक की आवाज़ बुलंद करता है और लड़ता है ग्राहक के हक की लड़ाई। जब कंपनियों की मनमानी के सामने कंज्यूमर झुकने लगता है, तब उनके हक की आवाज़ लेकर पहरेदार करता है कंपनी से सवाल और कंपनी को देना होता है जवाब।


पहरेदार के जरिए उन लोगों को इंसाफ मिल पाता है जो कंपनियों के अड़ियल रवैये के चलते उन जरूरी सर्विसेज से महरूम रह जाते हैं जो उनका हक है। पहरेदार उन कंपनियों को भी सबक सिखाता है जो वादे तो कर देती हैं लेकिन उन्हें पूरे करने में आनाकानी करती हैं।


आज सबसे पहले बात करते हैं बजाज आलियांज की लापरवाही ही की। सरकार के डिजिटल इंडिया के सपने को पूरा करने के लिए कई कंपनियां अपनी ज्यादा से ज्यादा सेवाओं को ऑनलाइन ले जा रही हैं। वहीं हम लोग भी घर बैठे इन सेवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं यानी ग्राहकों और कंपनियों दोनों के लिए ही विन-विन है। लेकिन यही विन-विन हार में तब बदल जाती है जब कंपनी की ओर से हुई गलती का खामियाजा ग्राहक को भुगतना पड़ता है।


इसी तरह का एक वाकया है बेंगलुरु के राजेन्द्र बिसवाल का। उन्होंने बताया कि उनके एकाउंट से इंश्योरेंस का 36842 रुपये का प्रीमियम ऑटो डेबिट हुआ था। प्रीमियम की रकम देने के बाद भी कंपनी ने पेमेंट करने को कहा। राजेन्द्र बिसवाल ने कंपनी के कहने पर फिर से 36842 रुपये का पेमेंट किया और कस्टमर केयर को ई-मेल करके ट्रांजेक्शन की जानकारी दी।


बजाज आलियांज ने प्रीमियम की रकम नहीं लौटाई। 2 महीनें तक राजेन्द्र बिसवाल की परेशानी का हल नहीं निकला। बैंक ने भी एकाउंट से पैसे कटने की पुष्टि की। बजाज आलियांज की दलील थी कि ई-मेल पर भेजे गए पेमेंट का रिकॉर्ड नहीं मिला। ई-मेल पर डॉक्यूमेंट भेजे पर कंपनी ने मिलने से इंकार किया। लेकिन पहरेदार के दखल के बाद राजेन्द्र बिसवाल को 1 दिन में ही पैसे वापस मिले 4 घंटे के भीतर ही कंपनी ने दोनों राशि मिलने की पुष्टि की और अतिरिक्त प्रीमियम की रकम कंज्यूमर को लौटाई गई।