Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

आगे बाजार से मिलेंगे अच्छे रिटर्न: समीर अरोड़ा

प्रकाशित Thu, 11, 2018 पर 10:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ हमेशा आप दर्शकों को ऐसे सेक्टर्स और कंपनियों में निवेश की सलाह देता है जो आपको मालामाल बनाते हैं। आवाज़ की 13वीं वर्षगांठ के मौके पर बाजार के दिग्गजों से बात हो रही है और उनसे जानते हैं कि 2018 बाजार के लिए कैसा रहेगा और कहां निवेश करना चाहिए। इसी कड़ी में सीएनबीसी-आवाज़ ने बात की हेलियस कैपिटल के समीर अरोड़ा से।


समीर अरोड़ा ने कहा कि 2018 में बाजार से 2017 जितने रिटर्न तो नहीं मिलेंगे। उन्होंने आगे कहा कि 2017 में फार्मा को छोड़कर सारे सेक्टर चले। 2018 में अगर 12-15 फीसदी रिटर्न मिल जाएं तो काफी अच्छा माना जाएगा। उन्होंने ये भी कहा कि पिछले 13 साल से अगले 13 साल बाजार के लिए अच्छे रहेंगे। करेंसी की वैल्यू घटने से भारत में रिटर्न कम हुआ है।


2018 भी बाजार के लिए अच्छा रहेगा। इस साल भी निवेशकों को पैसे बनाने के काफी मौके मिलेंगे। समीर अरोड़ा मानते हैं कि भारतीय बाजार दुनिया के बाजारों के साथ कदमताल करेंगे। हालांकि उन्होंने शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स के नियमों में फेरबदल को बाजार के लिए नुकसानदेह बताया और कहा कि इससे विदेशी निवेश घटेगा। 2017 बाजार के लिए बहुत अच्छा रहा। इस साल बाजार में उतार-चढ़ाव कम होगा।


समीर अरोड़ा का कहना है कि दुनिया के बाजार बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। भारतीय बाजार दुनिया के बाजारों के साथ चलेंगे। टैक्स कटौती के चलते अमेरिका में तेजी रहेगी। बाजार में म्युचुअल फंड का निवेश आता रहेगा।
 
साल 2018 अच्छा रहेगा इस साल कंपनियों के मुनाफे में 18-20 फीसदी ग्रोथ रहेगी। मोदी के 2019 का चुनाव जीतने से भी उत्साह रहेगा। एफआईआई निवेश कम क्यों? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि विदेशी निवेशकों के पास बहुत विकल्प हैं।


उन्होंने ये भी कहा कि शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स के नियम नहीं बदलनें चाहिए। शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स लगने से नुकसान होगा। वहीं लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स लगने से एफआईआई को नुकसान होगा। लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स की अवधि 3 साल करना गलत है। दूसरे देशों में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं लगता। एटीटी के अलावा दूसरा टैक्स नहीं लगना चाहिए।