Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

महंगे पेट्रोल-डीजल से और बढ़ेगी महंगाई

प्रकाशित Thu, 11, 2018 पर 16:18  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

डीजल के बढ़ते दाम आने वाले दिनों में महंगाई का झटका दे सकते हैं। कच्चे तेल के दाम बढ़ने की वजह से पिछले 3 महीने में डीजल के दाम करीब 8 फीसदी तक बढ़ चुके हैं। ऐसे में महंगे डीजल की मार ट्रांसपोर्ट और कृषि सेक्टर पर पड़ रही है। इससे आने वाले दिनों में महंगाई बढ़ सकती है।


डीजल के लगातार बढ़ते दाम जल्द ही महंगाई बढ़ा सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम 3 साल की ऊंचाई पर पहुंच गए हैं। इसमें आगे भी बढ़ोतरी के आसार हैं। ऐसे में डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी आगे भी जारी रह सकती है। दिल्ली में 4 अक्टूबर को डीजल के दाम 56 रुपये 89 पैसे थे जो अब बढ़कर 60 रुपये 66 पैसे हो गए हैं। 2014 में जारी नेल्सन इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक करीब 70 फीसदी डीजल का इस्तेमाल ट्रांसपोर्टेशन सेक्टर के लिए होता है। इसमें ट्रकों की हिस्सेदारी 28.5 फीसदी, बसों की 9.55 फीसदी और रेलवे की 3.24 फीसदी है। महंगे डीजल की मार झेल रहे ट्रांसपोर्टर्स किराए में 10 फीसदी की बढ़ोतरी करने के लिए तैयार हैं।


महंगे डीजल की मार से किसान भी अछूते नहीं हैं। कृषि क्षेत्र में कुल डीजल के 13 फीसदी हिस्से का इस्तेमाल होता है। इसमें ट्रैक्टर, पंपसेट्स, थ्रेसर, हार्वेस्टर शामिल हैं। ट्रैक्टर में कुल डीजल की खपत का 7.4 फीसदी हिस्सा इस्तेमाल होता है जबकि पंप सेट्स में 2.9 फीसदी और कृषि के अन्य कामों में 2.7 फीसदी हिस्सा इस्तेमाल होता है। फिलहाल किसानों के लिए डीजल से पंप चला कर फसलों को पानी देने का समय है जिससे इनकी लागत बढ़ सकती है।


जनता को महंगे पेट्रोल, डीजल से राहत देने के लिए सरकार ने 4 अक्टूबर 2017 को एक्साइज ड्यूटी में 2 रुपये की कटौती की थी। लेकिन पेट्रोल, डीजल के दाम फिर से बढ़ने लगे हैं। अगर सरकार इनके दामों में कटौती नहीं करती है तो जनता को महंगाई का झटका लग सकता है।


पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने एक बार फिर पेट्रोलियम प्रोडक्ट को जीएसटी के दायरे में लाने की बात कही है। हलांकि उन्होंने ये भी साफ किया कि भले ही पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान पर हो लेकिन सरकार का एक्साइज ड्यूटी घटाने का कोई इरादा नहीं हैं।