Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

स्वास्थ्य मंत्रालय शुरू करेगा 10 नए कोर्स

प्रकाशित Thu, 11, 2018 पर 17:26  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश में प्रशिक्षित हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स की कमी को देखते हुए सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े 10 तरह के कोर्सेज को चिन्हित किया है और जल्द ही इनसे जुड़े कोर्सेज को विभिन्न संस्थानों में शुरू किया जाएगा। दावा है कि इससे रोजगार की समस्या दूर होगी।


मेडिकल क्षेत्र में करियर का मतलब सिर्फ डॉक्टर या नर्स नहीं है । इस क्षेत्र में तमाम ऐसे कर्माचारी और तकनीकी जानकारों की जरूरत होती है जिनके बिना इलाज मुमकिन नहीं है। इनकी अच्छी डिमांड भी है लेकिन देश में ऐसे प्रशिक्षित कर्माचारियों और इनके लिए यूनिफार्म कोर्सेज की भारी कमी है। कई संस्थान इससे जुड़े कोर्स कराते हैं लेकिन वो इंडस्ट्री की डिमांड के मुताबिक नहीं हैं और प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी राम भरोसे है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने अब इन कोर्सेज को नियमत करने का फैसला किया है। इसके तहत ट्रेनिंग अगले सत्र से शुरू की जाएगी। पहले चरण में 10 तरह के रोल्स को चिन्हित किया गया है। इनमें


जनरल ड्यूटी असिस्टेंट, होम हेल्थ एड, गेरियाट्रिक केयर असिस्टेंट, डायबिटीज एजुकेटर, डायटेटिक एड, मेडिकल इक्विपमेंट टेक्नोलॉजी असिस्टेंट, सेनिटरी इंस्पेक्टर, फ्लेबोटोमिस्ट, ईएमटी-बेसिक और विजन टेक्निशियन। इनके लिए डिप्लोमा कोर्सेज शुरू किए जाएंगे। हालांकि कई अन्य तरह के कोर्सेज भी पाइपलाइन में हैं जिन्हें आगे जाकर नियमित किया जाएगा।


इन कोर्सेज में ज्यादातर के लिए योग्यता 10+2 होगी। फिलहाल इन कोर्सेज को स्वास्थ्य मंत्रालय के अधीन एनएचआईएफडब्ल्यू यानि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड फेमिली वेल्फेयर जैसे संस्थानों में शुरू किया जाएगा। हालांकि मंत्रालय इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी के संपर्क में भी है जो निजी ट्रेनिंग सेंटर को मान्यता देकर डिप्लोमा देंगे। सूत्रों के मुताबिक एम्स जैसे सरकारी चिकित्सा संस्थानों में निकलने वाली जॉब्स में योग्यता के आधार के तौर पर डिप्लोमा को मान्यता होगी। साथ ही कोर्स की डिमांड इंडस्ट्री के मुताबिक होने से प्राइवेट नौकरियां भी आसानी से मिलेंगी।