Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ई-वॉलेट में अटका पैसा, पहरेदार से शिकायत

प्रकाशित Sat, 13, 2018 पर 16:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर आने वाला टीवी का सबसे बड़ा कंज्यूमर शो पहरेदार ग्राहक की आवाज़ बुलंद करता है और लड़ता है ग्राहक के हक की लड़ाई। जब कंपनियों की मनमानी के सामने कंज्यूमर झुकने लगता है, तब उनके हक की आवाज़ लेकर पहरेदार करता है कंपनी से सवाल और कंपनी को देना होता है जवाब।


पहरेदार के जरिए उन लोगों को इंसाफ मिल पाता है जो कंपनियों के अड़ियल रवैये के चलते उन जरूरी सर्विसेज से महरूम रह जाते हैं जो उनका हक है। पहरेदार उन कंपनियों को भी सबक सिखाता है जो वादे तो कर देती हैं लेकिन उन्हें पूरे करने में आनाकानी करती हैं।


आज सबसे बात करें ई-वॉलेट्स पर। ई-वॉलेट का चलन भारत में अभी नया है और इसके पीछे एक ही मकसद है बिना कैश के आप लेन-देन कर सकें। लेकिन क्या जब कोई ग्राहक किसी कंपनी के ई-वॉलेट का इस्तेमाल करता है और वहां परेशानी आती है तो कंपनी किस तरह से मदद करती है। यह सवाल इसलिए पूछ रहे है कि क्योंकि पहरेदार को डिजिटल ई-वॉलेट से शिकायत मिली है जहां पर कंज्यूमर पहले इसलिए परेशान हुआ कि उसके पैसे ठीक से ट्रांसफर नहीं हुए और जब परेशानी आई तो ई-वॉलेट कंपनी ने मुंह मोड़ लिया।


कंज्यूमर का कहना है कि अक्टूबर 2017 को 20000 रुपये का ट्रांसफर किया था। फोन पे वॉलेट से अपने अकाउंट में पैसे ट्रांसफर किए। काफी वक्त तक ट्रांजैक्शन पेंडिंग रहा। कुछ देर बाद पैसे अकाउंट में ट्रांसफर हो गए। उसके कुछ देर बाद पैसे अकाउंट से डेबिट हो गए। फोन पर कस्टमर केयर से संपर्क किया। ई-मेल के जरिए भी कोई मदद नहीं मिली।


कंज्यूमर ने आगे बताया कि कंपनी ने एसबीआई बैंक में शिकायत करने को कहा। एसबीआई बैंक और यूपीआई में भी शिकायत दर्ज की है। बैंक ने वॉलेट कंपनी से संपर्क करने को कहा। पहरेदार की कोशिश से तुरंत कार्रवाई हुई। कंपनी ने पैसा लौटाने का आश्वासना दिया। 3 से 4 दिनों में पैसा अकाउंट में आ गया।


फोन पे ने पहरेदार को अपने जबाव में लिखा है कि ग्राहक के अकाउंट में पैसे क्रेडिट हुए है। कंपनी की ओर से कोई गलती नहीं हुई है। बैंकिंग नेटवर्क में तकनीकी दिक्कत से परेशानी हुई है। बैंक और एनपीसीआई से फॉलोअप के बाद मामला सुलझाया गया।