Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पहला कदम: इक्विटी मार्केट में डिविडेंड का फंडा

प्रकाशित Sat, 13, 2018 पर 16:26  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पहला कदम सीजन-3 में पिछले एपिसोड्स में बात हुई है म्युचुअल फंड्स की। अब अगले कई एपिसोड्स में हम चर्चा करेंगे इक्विटी यानि शेयर बाजार में सीधे निवेश की। इसकी शुरूआत हम इस एपिसोड्स से करने जा रहे हैं। अगर आप सीधे किसी कंपनी के शेयर खरीदना चाहते हैं तो आपको किन बातों का ख्याल रखना चाहिए। उस कंपनी के बारे में ऐसी कौन सी चीजें जिनके बारे में शेयर खरीदने से पहले एनालिसिस जरूरी है।


आज के एपिसोड में हम इन्ही सब बातों पर चर्चा कर रहे हैं। बतौर एक्सपर्ट हैं हमारे साथ हैं अरुण ठुकराल एमडी और सीइओ एक्सिस सिक्योरिटीज और सीएनबीसी-आवाज़ के एग्जीक्यूटिव एडिटर अनिल सिंघवी। इस एपिसोड के बाद अगर आपका कोई सवाल है तो आप पहला कदम की वेबसाइट, फेसबुक पेज और ट्विटर के जरिए हम तक पहुंचा सकते हैं। इस सीजन में हमने एक कॉन्टेस्ट भी रखा है। पहला कदम सीजन-3 की वेबसाइट या फेसबुक पेज पर जाकर आप इस कॉन्टेस्ट में हिस्सा ले सकते हैं। महीनेभर में जो प्रतियोगी वेबसाइट पर पूछे गए सवालों के सबसे ज्यादा बार सही जवाब देगा उसे गुरु ऑफ द मंथ का अवॉर्ड दिया जाएगा।


इक्विटी फंड पर चर्चा को जारी रखते हुए आज समझेंगे कि इक्विटी मार्केट में डिविडेंड क्या होता है? जानकारों का कहना है कि डिविडेंड, मुनाफे का एक हिस्सा है जो निवेशकों को दिया जाता है। हालांकि यह कंपनी के मुनाफे पर निर्भर करता है। जानकारों के मुताबिक सॉफ्टवेयर कंपनियां आमतौर पर ज्यादा डिविडेंड देती हैं। पेंट और एफएमजीसी कंपनियां निवेशकों का बड़ा डिविडेंड देती हैं।


जानकारों ने बताया कि कभी- कभी कैश ज्यादा होने पर निवेशकों को डिविडेंड दे दिया जाता है। कैश ज्यादा होने और कंपनी के पास ग्रोथ प्लान ना होने पर डिविडेंड दिया जाता है। कंपनियां डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूएशन टैक्स चुकाती है। डिविडेंड तिमाही, छमाही या 1 साल में  दिया जाता है।