Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कस्टम ड्यूटी बढ़ी, मोबाइल पड़ेगा जेब पर भारी

प्रकाशित Sat, 03, 2018 पर 13:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

वित्त मंत्री ने मोबाइल फोन पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर विदेश से इंपोर्ट होने वाले मोबाइल फोन महंगे कर दिए हैं। अगर आप मोबाइल फोन खरीदने की सोच रहे हैं तो वित्त मंत्री की ये घोषणा आपकी जेब पर भारी पड़ सकती है। वित्त मंत्री ने बजट में 5 फीसदी कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर मोबाइल फोन महंगे दर दिए हैं। सरकार के इस एलान से एप्पल, गूगल, वीवो और ओप्पो के मोबाइल फोन्स की कीमतों में 3 से 4 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है। यानी 89000 रुपये वाले आइफोन टेन के लिए आपको अब 98400 रुपए खर्च करने होंगे। वहीं वन प्लस 5टी के 128 जीबी मॉडल के लिए आपको 38000 के बजाय 42030 रुपए देने होंगे।


पिछले साल जुलाई में मोबाइल फोन्स पर 10 फीसदी की कस्टम ड्यूटी लगाई गई थी, जिसे दिसंबर में बढ़ाकर 15 फीसदी कर दिया था। इस बजट में इसे फिर से बढ़ाकर 20 फीसदी कर दिया गया है। कस्टम ड्यूटी बढ़ाने का ये फैसला आम आदमी को भले ही पसंद न आए, लेकिन मोबाइल इंडस्ट्री का कहना ही ये फैसला उनके लिए कोई नहीं बात नहीं होगी और वो पहले से ही इसके लिए तैयार हैं।


सरकार के मेक इन इंडिया प्रोग्राम को बढ़ावा देने के लिए मोबाइल कंपनियां पहले ही भारत में फोन बनाने की शुरुआत कर चुकी हैं । माइक्रोमैक्स, इंटेक्स और लावा जैसे ब्रांड्स तो पहले ही ये काम कर रहे थे, लेकिन सैमसंग, शाओमी और नोकिया भी मेक इन इंडिया का हिस्सा बन चुके हैं। इसलिए इंडस्ट्री का मानना है कि बजट में लिए गए इस फैसले का ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।


मोबाइल फोन के अलावा, स्पेयर पार्ट्स जैसे बैटरी, चार्जर और एलईडडी पैनल समेत टीवी के दूसरे पार्ट्स पर भी कस्टम ड्यूटी को 15 फीसदी तक बढ़ा दिया गया है। स्मार्टवॉच और वियरेबल गैजेट पर भी 20 फीसदी कस्टम ड्यूटी लगेगी। सरकार का कहना है कि इस फैसले के पीछे मेक इन इंडिया को तेजी से आगे बढ़ाना मकसद है।