Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

डेटा चोरी पर सख्ती, पेमेंट बैंकों को भारत में लगाना होगा सर्वर

प्रकाशित Mon, 09, 2018 पर 08:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अब जिन पेमेंट कंपनियों का सर्वर भारत में नहीं है उनका भारत में काम करना मुश्किल होगा। आरबीआई ने दो टूक निर्देश दिया है कि वो सर्वर भारत में लगा लें या फिर अपना कामकाज समेंट लें। ऐसा डाटा लीक और उसके गलत इस्तेमाल को रोकने के लिए किया जा रही है।


ग्राहकों के फाइनेंशियल डाटा लीक रोकने और उसके गलत इस्तेमाल को रोकने के लिए रिजर्व बैंक ने पेमेंट कंपनियों के लिए नई गाइडलाइंस जारी की है। अब वीजा, मास्टरकार्ड, वॉट्सऐप पेमेंट, और गूगल जिनके सर्वेर विदेशों में हैं उनको भी सर्वर भारत में लगाने होंगे। सभी पेमेंट बैंक को 6 महीने अंदर ही भारत में सर्वर लगाने होंगे। गाइडलाइंस का पालन नहीं करने पर सेवाओं को बंद करना होगा।


दरअसल विदेशों में सर्वर रहने से उनका ऑडिट नहीं हो पाता और ग्राहकों की गोपनीय जानकारी लीक हो जाती है। ऐसा होने पर कंपनियों पर कार्रवाई भी नहीं की जा सकेगी। इसलिए एक्सपर्ट मानते हैं कि पेमेंट बैंकों का भारत में सर्वर होना जरूरी है। रिजर्व बैंक की गाइड लाइंस का असर देश में सेवाएं देने वाली कंपनी जैसे पेटीएम, पे-यू मनी, मोबिक्विक और ओला वैलेट जैसी सेवाओं पर नहीं पड़ेगा क्योंकि इनके सर्वर देश में ही हैं।