Moneycontrol » समाचार » राजनीति

दलितों के नाम पर कांग्रेस का धरना-उपवास

प्रकाशित Mon, 09, 2018 पर 16:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बीजेपी और कांग्रेस ने एक दूसरे के खिलाफ उपवास युद्ध छेड़ दिया है। आज कांग्रेस ने देश में दलितों के साथ हो रहे अत्याचार और बीजेपी सरकार के खिलाफ देश में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का आरोप लगाते हुए एक दिन का उपवास रखा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी राजघाट पर उपवास पर बैठे हैं। राहुल के साथ कांग्रेस के कई बड़े नेता भी मौजूद हैं।


उपवास पर बैठने से पहले राहुल गांधी ने महात्मा गांधी की समाधि पर जाकर श्रद्दांजलि दी। दलितों के उत्पीड़न के अलावा कांग्रेस सीबीएसई पेपर लीक, पीएनबी घोटाले, कावेरी मुद्दे, आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जे देने जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर संसद में चर्चा ना कराने पर भी मोदी सरकार के खिलाफ धरना दे रही है।


कांग्रेस के उपवास से पहले राजघाट पर आज एक हाइवोल्टेज ड्रामा दिखा। 84 दंगों के आरोपी नेता जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार जैसे ही राजघाट पहुंचे, कुछ ही देर में वो वहां से चले गए। उनके खिलाफ नारेबाजी भी की गई। खबर ही कि दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार को उपवास वाली जगह से वापस जाने को कहा।  बताया जा रहा है कि अजय माकन ने उनके कान में कुछ कहा जिसके बाद वो वापस चले गए।


अजय माकन ने उन्हें उपवास स्थल पर किसी विवाद से बचने के लिए वापस भेजा। हालांकि जगदीश टाइटलर धरना स्थल फिर लौटे और कार्यकर्ताओं के बीच बैठ गए। वहीं उपवास स्थल से वापस भेजे जाने की खबरों पर कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर ने खुद भी सफाई भी दी।


उधर बीजेपी ने कांग्रेस के उपवास पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। विपक्ष पर संसद न चलने देने का आरोप लगाते हुए बीजेपी 12 अप्रैल को देशभर में उपवास रखने जा रही है। इसी बीच बीजेपी ने हरीश खुराना ने एक तस्वीर जारी कर कांग्रेस के उपवास पर निशाना साधा है। इस तस्वीर में अजय माकन, अरविंदर सिंह लवली और हारुन युसुफ छोले भटूरे खाते दिख रहे हैं। कांग्रेस की इस तस्वीर पर बीजेपी ने जमकर वार किया है।


बीजेपी ने कहा कि उपवास से पहले कांग्रेस के नेता छोले भटूरे खा रहे हैं। कांग्रेस नेताओं की छोले भटूरे खाते तस्वीरों से कांग्रेस की जमकर किरकिरी हो रही है। बीजेपी ने कांग्रेस के उपवास पर आज जमकर निशाना साधा। उसने कहा दंगा कराने के जो मास्टरमाइंड रहे हैं वो आज दलितों के हित की बात करके ढोंग कर रहे हैं।