Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

फ्रॉड से बचने के लिए बैंक ले रहे पॉलिसी

प्रकाशित Mon, 09, 2018 पर 16:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एक के बाद एक फ्रॉड से हिले बैंकिंग सेक्टर ने भारी नुकसान से बचने के लिए कमर कस ली है। अब ज्यादातर बैंक हर तरह के फ्रॉड से बचने के लिए बड़ी इंश्योरेंस पॉलिसी ले रहे हैं। जहां पहले बैंक सिर्फ 50 करोड़ तक की पॉलिसी लेते थे वहीं अब 400 करोड़ रुपये तक की पॉलिसी लेनी पड़ रही है।


पीएनबी घोटाले ने बैंकिंग सेक्टर को बुरी तरह हिला दिया है और इसका सीधा असर हुआ है बैंकों की बैलेंसशीट पर। इस तरह के फ्रॉड से बचने के लिए बैंक अब बड़ी इंश्योरेंस पॉलिसी ले रहे हैं। पहले बैंक अपने ही ऑडिट और रिस्क मैनेजमेंट विभाग पर भरोसा करते थे। लेकिन अब ऐसा करना मुश्किल हो गया है। इंश्योरेंस ब्रोकर्स का कहना है कि पिछले 2 महीनों में कॉपरेटिव बैंक, छोटे सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंकों ने इस बारे में पूछताछ की है। जहां पहले बैंक एक पॉलिसी लेने में महीने लेते थे वो अब पॉलिसी लेने में कुछ दिनों में ही फैसला ले रहे हैं।


जानकारों का मानना है कि जिन बैंकों ने पहले से बीमा ले रखा है वो अब बीमा की रकम को और बढ़ाएंगे। इसी के साथ बैंक अपने रिस्क और इंश्योरेंस विभाग अभी अलग काम करता है उसको भी साथ में लाएंगे ताकि रिस्क एनालिसिस और इससे बचने के लिए तैयारी और बेहतर हो सके।