कैसे रहेंगे मार्च तिमाही के नतीजे, कहां लगाएं दांव

प्रकाशित Tue, 10, 2018 पर 13:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मार्च तिमाही के नतीजों की शुरुआत हो चुकी है। इस बार नतीजों से क्या उम्मीदें हैं और नतीजों से पहले किन सेक्टर में निवेश फायदेमंद होगा और किन सेक्टर से दूर रहना बेहतर होगा, यही जानने के लिए सीएनबीसी-आवाज़ आपके लिए लेकर आया है खास पेशकश कॉरपोरेट इंडिया कैसी रहेगी सेहत। इस खास शो में सीएनबीसी-आवाज़ के साथ हैं आईडीबीआई कैपिटल के इंस्टिट्यूशनल रिसर्च हेड सुदीप आनंद और एडेलवाइस सिक्योरिटीज के इंस्टिट्यूशनल हेड निश्चल माहेश्वरी।


एडेलवाइस के मुताबिक चौथी तिमाही में निफ्टी कंपनियों के मुनाफे में सालाना आधार पर 15 फीसदी बढ़त संभव हैं। वहीं ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के मुनाफे में सालाना आधार पर 68 फीसदी बढ़त संभव है। जबकि कंपनियों की आय में 14 फीसदी और एबिटडा में 23 फीसदी ग्रोथ संभव है।


एडेलवाइस के मुताबिक चौथी तिमाही में आयशर मोटर्स, बजाज ऑटो, इंडियाबुल्स हाउसिंग की आय में बढ़त की उम्मीद है। वहीं एसबीआई, भारती एयरटेल, सन फार्मा, ल्यूपिन की आय घट सकती है। एडेलवाइस के मुताबिक आईओसी, गेल, टेक महिंद्रा के मुनाफे में तेज बढ़त संभव है।


आईडीबीआई कैपिटल के सुदीप आनंद का कहना है कि चौथी तिमाही में मिडकैप कंपनियों की वॉल्यूम ग्रोथ में सालाना आधार पर तेज उछाल संभव है। मिडकैप कंपनियों को जीएसटी का फायदा मिलने का अनुमान है। इस तिमाही में सुप्रीम इंडस्ट्रीज, एस्ट्रल पॉली, फिनोलेक्स, नीलकमल के मुनाफे में जोरदार बढ़त देखने को मिल सकती है। वहीं अमारा राजा, एक्साइड की बिक्री 20 फीसदी तक बढ़ सकती है। इस तिमाही में फिलिप्स कार्बन ब्लैक, रेन इंडस्ट्रीज के नतीजे अच्छे रहेंगे जबकि ट्राइडेंट के नतीजों में कमजोरी देखने को मिल सकती है।


एडेलवाइस सिक्योरिटीज के निश्चल माहेश्वरी के मुताबिक चौथी तिमाही में 5 दिग्गज आईटी कंपनियों की डॉलर आय में 1.1-2.2 फीसदी की बढ़त संभव है। एचसीएल टेक की डॉलर आय 2.2 फीसदी बढ़ सकती है। रुपये में उतार-चढ़ाव से आईटी सेक्टर की मार्जिन में 0.30-50 फीसदी की कमी संभव है। इंफोसिस, एचसीएल टेक, टेक महिंद्रा आईटी में निश्चल माहेश्वरी के पसंदीदा शेयर हैं।


सुदीप आनंद के मुताबिक चौथी तिमाही में सरकारी बैंकों के नतीजे कमजोर हो सकते हैं। इनमें कमजोर लोन ग्रोथ, एनआईएम में दबाव, ट्रेजरी आय में कमी दिखेगी। क्रेडिट कॉस्ट में बढ़त सरकारी बैंकों के नतीजों पर असर डालेगी। वहीं इस तिमाही में हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां नतीजों में बढ़त दिख सकती हैं। होम लोन बांटने में सुधार दिख सकता है।


निश्चल माहेश्वरी के मुताबिक चौथी तिमाही में कंज्यूमर गुड्स कंपनियों की वॉल्यूम ग्रोथ 5 फीसदी बढ़ सकती है। जीएसटी से उत्पाद सस्ते हुए हैं जिससे डिमांड भी बढ़ी है। उत्पादों की कीमतें नहीं बढ़ने का मार्जिन पर असर होगा। विज्ञापन पर खर्च बढ़ने का एबिटडा मार्जिन पर असर दिखेगा। एफएमजी सेक्टर में पिडिलाइट, डाबर, एचयूएल, नेस्ले, आईटीसी निश्चल माहेश्वरी की टॉप पिक हैं।


सुदीप आनंद का कहना है कि चौथी तिमाही में टू-व्हीलर कंपनियों की रिकॉर्ड आय आएगी। हालांकि कच्चे माल की लागत बढ़ने से मार्जिन में कमी आएगी। कमर्शियल व्हीकल कंपनियों का मुनाफा बढ़ेगा। मारुति सुजुकी, अशोक लेलैंड ऑटो कंपनियों में सुदीप आनंद की टॉप पिक हैं।


निश्चल माहेश्वरी का कहना है कि चौथी तिमाही में ऑयल एंड गैस सेक्टर के नतीजे अच्छे आ सकते हैं। ऑयल मार्केटिंग कंपनी को इन्वेंट्री गेन का फायदा मिलेगा। इनको पेट्रोल, डीजल की कीमतें बढ़ने का भी फायदा मिलेगा। ओएनजीसी, आरआईएल, गुजरात गैस ऑयल एंड गैस में निश्चल माहेश्वरी की टॉप पिक्स हैं।


सुदीप आनंद के मुताबिक चौथी तिमाही में फार्मा कंपनियों की आय में सालाना आधार पर 8.5 फीसदी की ग्रोथ संभव है। इनकी मार्जिन में लगातार सुधार दिखेगा। फार्मा कंपनियों को यूएस में दवा को मंजूरी और नए लॉन्च का भी फायदा मिलेगा।


निश्चल माहेश्वरी के मुताबिक चौथी तिमाही में मेटल-माइनिंग कंपनियों जेएसपीएल और एनएमडीसी के एबिटडा में जोरदार उछाल दिखेगा। वेदांता, हिंडाल्को, टाटा स्टील के नतीजे भी अच्छे रह सकते हैं। इस तिमाही में स्टील कंपनियों के मार्जिन भी बढ़ेंगे। हालांकि महंगे फ्यूल का मेटल माइनिंग-कंपनियों के नतीजों पर असर दिखेगा। वेदांता, हिंडाल्को और टाटा स्टील मेटल-माइनिंग में निश्चल माहेश्वरी की टॉप पिक्स हैं।