Moneycontrol » समाचार » कमोडिटी खबरें

चीनी में भारी मुनाफाखोरी, एग्री में आगे क्या करें

प्रकाशित Wed, 09, 2018 पर 16:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

रुपये में कमजोरी का असर कमोडिटी बाजार पर पड़ा है। खाने के तेलों में तेजी आई है और सोया और पाम तेल 0.5 से 1 फीसदी ऊपर कारोबार कर रहे हैं। वहीं सोयाबीन और सरसों में भी बढ़त पर कारोबार हो रहा है। सरकारी खरीद से चने का भाव भी 1 फीसदी बढ़ गया है।


थोक में चीनी का भाव जमीन पर है। मिलों को लागत निकालना मुश्किल हो रहा है। गन्ना किसानों को भुगतान नहीं हो पा रहा है। मामले से निपटने के लिए सरकार तक परेशान है। लेकिन रिटेलर्स की चांदी है। मानों इन्हें पूरी तरह से छूट मिली हुई है। दिल्ली हो या मुंबई थोक में चीनी 2800 रुपये क्विंटल है।


यूपी हो या महाराष्ट्र मिलें चीनी 2700 रुपए क्विंटल के भी नीचे चीनी बेचने को मजबूर हैं। लेकिन रिटेल में चीनी अभी भी 40 रुपए किलो के पास है। यानि प्रति किलो चीनी पर रिटेलर्स करीब 7 से 8 रुपए की मोटी कमाई कर रहे हैं। यानि चीनी में सिर्फ रिटेलर्स की चांदी है। क्योंकि ग्राहकों को भी चीनी के गिरते दाम का काफी फायदा नहीं मिल रहा है। रिटेलर्स के इस रवैये से महंगाई को भी सह मिल रहा है।


वहीं क्रूड में आई तेजी से ग्वार को सपोर्ट मिला है। दरअसल अमेरिका के ईरान समझौता तोड़ने से कच्चा तेल उछल गया है और फिलहाल ये 3.5 फीसदी ऊपर कारोबार कर रहा है। हालांकि डॉलर में बढ़त से सोना दबाव में आ गया है और इसका दाम गिर गया है। लेकिन सोने में गिरावट बढ़ गई है। घरेलू बाजार में कमजोर रुपए के बावजूद सोना प्रेशर में है। दरअसल ग्लोबल मार्केट में इसका दाम 1310 डॉलर के नीचे फिसल गया है।


हेम सिक्योरिटीज की निवेश सलाह


एनसीडीईएक्स सरसों (मई वायदा): खरीदें 3840, स्टॉपलॉस 3770, लक्ष्य 3930


एनसीडीईएक्स कपास खली (मई वायदा): खरीदें 1320, स्टॉपलॉस 1270, लक्ष्य 1389


कार्वी कॉमट्रेड की निवेश सलाह


एमसीएक्स कच्चा तेल (मई वायदा): खरीदें 4730, स्टॉपलॉस 4690, लक्ष्य 4850


एमसीएक्स निकेल (मई वायदा): बेचें 936, स्टॉपलॉस 950, लक्ष्य 900