Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

महंगा क्रूड बनाएगा मालामाल, पोर्टफोलियो में रखें ये शेयर

प्रकाशित Fri, 11, 2018 पर 13:04  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कच्चे तेल में तेजी से आमतौर पर ये धारणा ये होती है कि इकोनॉमी को नुकसान होगा और कई सारी कंपनियों के शेयर लुढ़क जाएंगे। खासतौर पर पेट्रोल-डीजल बेचने वाली कंपनियां इनके अलावा पेंट, प्लास्टिक, ट्रांसपोर्ट सहित कई सेक्टर को भी नुकसान होता है। लेकिन आपकी चिंता को दूर करने का जिम्मा हमने उठाया है और इसलिए सीएनबीसी-आवाज़ की पूरी टीम आपके लिए लेकर आई है कुछ ऐसे शेयर्स जिन्हें कच्चे तेल की तेजी से फायदा मिलता है, तो आइए जानते हैं वो शेयर जो महंगे क्रूड से आपको बनाएंगे मालामाल।


ऑयल इंडिया
- पेट्रोल-डीजल पर सब्सिडी खत्म होने से अच्छे दिन शुरू
- आउटपरफॉर्मर बनी, पिछले 2 साल में 51 फीसदी रिटर्न दिया
- पिछले 2 साल में निफ्टी का रिटर्न 39 फीसदी रहा है
- यूएस, ईरान में परमाणु समझौता टूटने से कच्चा तेल महंगा होगा


वेदांता
- केर्न के मर्जर के बाद वेदांता क्रूड के कारोबार से जुड़ा
- वेदांता 3 साल में क्रूड उत्पादन 50 फीसदी बढ़ाएगी
- उत्पादन बढ़ाने के लिए 37,000 करोड़ रुपये का निवेश होगा
- वेदांता को ओएएलपी में बड़ी संख्या में ब्लॉक मिलने की उम्मीद
- कमोडिटी की तेजी पर दांव लगाना है तो वेदांता अच्छा विकल्प
- वेदांता क्रूड, जिंक, एल्यूमीनियम, कॉपर के बड़े उत्पादकों में शामिल


जिंदल ड्रिलिंग / सेलन एक्सप्लोरेशन
- ये कंपनियां ऑफशोर ऑयल रिग को किराए पर देने का काम
- ऑफशोर रिग के मेंटेनेंस का भी कारोबार करती हैं
- क्रूड में बढ़त से ऑयल कंपनियों का कैपेक्स बढ़ेगा
- लिहाजा ड्रिलिंग कंपनियों के रियलाइजेशन में भी सुधार की उम्मीद है


कोहिनूर फूड्स / एलटी फूड्स / डाबर
- भारत से सउदी अरब को 40-45 फीसदी बासमती चावल का एक्सपोर्ट
- आर्थिक हालात बेहतर होने से कंजम्प्शन में बढ़त होगी
- पैकेज्ड फूड सेगमेंट में उतरने से फायदा मिलेगा
- एलटी फूड्स की मध्य-पूर्व एशिया में बासमती चावल की 38 फीसदी खपत है
- एलटी फूड्स की आय में एक्सपोर्ट कारोबार का 55 फीसदी हिस्सा है
- वहीं मध्य-पूर्वी देशों में डाबर के ब्रांड्स मशहूर हैं
- डाबर की कुल बिक्री में 28 फीसदी हिस्सा अंतरराष्ट्रीय कारोबार से आता है


गेल
- गैस पाइपलाइन और ट्रेडिंग का कारोबार
- पेट्रोल-डीजल के मुकाबले गैस का इस्तेमाल बढ़ने से फायदा
- दिल्ली-एनसीआर में एनजीटी का सीएनजी गाड़ियां चलाने का आदेश
- डीमर्जर जल्द, गैस ट्रेडिंग और डिस्ट्रीब्यूशन कारोबार अलग होगा
- गेल केवल गैस डिस्ट्रीब्यूशन में ही रहेगी
- 10 साल से आरओई 14.46 फीसदी रहा है
- 10 साल से बिक्री 12 फीसदी की दर से बढ़ रही है
- महानगर गैस, आईजीएल और रत्नागिरी गैस इसकी सब्सिडियरी है


आईजीएल
- दिल्ली-एनसीआर में सिटी गैस की कंपनी
- दिल्ली-एनसीआर के सीएनजी मार्केट में एकाधिकार
- दिल्ली-एनसीआर में एनजीटी का सीएनजी गाड़ियां चलाने का आदेश
- 10 साल से बिक्री करीब 21 फीसदी बढ़ी, मुनाफे में करीब 14 फीसदी ग्रोथ रही
- 10 साल से आरओई करीब 24 फीसदी रहा


एलएंडटी / केईसी इंटरनेशनल / वोल्टास / पुंज लॉयड
- कच्चे तेल में तेजी से मध्य-पूर्वी देशों की इकोनॉमी सुधरेगी
- इकोनॉमी सुधरने से मध्य-पूर्वी देशों से ऑर्डर बढ़ेंगे