Moneycontrol » समाचार » टैक्स

महिलाओं के लिए टैक्स गुरु के सुझाव

प्रकाशित Sat, 05, 2011 पर 15:41  |  स्रोत : Moneycontrol.com

5 फरवरी 2011

सीएनबीसी आवाज़


टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया
का कहना है महिलाओं को बिजनेस या प्रोफेसनल कार्यों को दिए गए कैश पेमेंट पर टैक्स छूट मिलती है। आयकर नियम 6डीडी के तहत महिलाओं को रोजाना 20,000 रुपये तक के कैश पेमेंट पर कर छूट मिल सकती है।



इस नियम के तहत आरबीआई, बैंक को दिए गए 20,000 रुपये के कैश पेमेंट पर छूट मिलेगी। जिस गांव में बैंक नहीं है ऐसे गांव में किए गए 20,000 रुपये तक के कैश पेमेंट पर भी आयकर में छूट मिल सकती है। सरकार को किए गए कैश पेमेंट, बैंक से मेल, टेलीग्राफिक ट्रांसफर के जरिए किए कैश पेमेंट भी इसी टैक्स छूट के दायरे में आते हैं।



महिलाएं अगर चैरिटेबल शिक्षण संस्था खोलना चाहती है तो ऐसे शिक्षण संस्था की आय पर टैक्स नहीं लगेगा। इस शिक्षण संस्था के लिए लोन लिया है तो इसके ब्याज पर भी टैक्स छूट मिल सकती है।



अगर किसी महिला को पुश्तैनी जायदाद मिलती है तो इस संपत्ति को बेचने के बाद मिली रकम पर टैक्स बचा सकते हैं। इसके लिए एक ही शर्त है कि पुरानी संपत्ति बेचकर आप आवासीय प्रॉपर्टी में ही निवेश करें। इस निवेश पर 100 फीसदी टैक्स छूट का फायदा उठा सकती हैं।



ज्यादातर महिलाएं घर पर टूयूशन पढ़ाने को आय कमाने का जरिया बनाती हैं। टैक्स गुरु के मुताबिक महिलाएं ट्यूशन के जरिए हुई आय को बैंक में जमा कराते रहें और उस ब्याज पर टैक्स दें। इस प्रकार टैक्स चोरी का कोई डर नहीं रहेगा।



अगर कोई पति अपनी पत्नी को उपहार देता है तो उपहार की रकम पति की आय में जोड़ी जाएगी और इस पर टैक्स लगेगा। यही नियम पत्नि के लिए भी लागू होता है।


वीडियो देखें