Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस पर पंकज मठपाल का सुझाव

प्रकाशित Sat, 09, 2011 पर 16:09  |  स्रोत : Moneycontrol.com

9 अप्रैल 2011



सीएनबीसी आवाज़



जानते हैं इंश्योरेंस से जुडी समस्याओं पर ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के डायरेक्टर पंकज मठपाल की सलाह -


सवाल :
जनवरी 2009 में एचडीएफसी यंग स्टार पॉलिसी खरीदी थी। अब तक 50,000 रुपये लगाए हैं, लेकिन मौजूदा वैल्यू 33,000 रुपये है।     

पंकज मठपाल
: 3 साल पॉलिसी प्रीमियम भरने के बाद उसकी वैल्यू कितनी हुई है, यह देख सकते हैं। बच्चे के लिए इंवेस्टमेंट उसके पढ़ाई के लिए आनेवाले खर्च को ध्यान में रखते हुए करना चाहिए।    


सवाल : टैक्स सेविंग के लिए पिछले साल एलआईसी जीवन आनंद पॉलिसी ली थी। इस पॉलिसी में बने रहे या निकल जाएं? 

पंकज मठपाल :
एंडोमेंट और व्होल लाइफ पॉलिसी के फायदे एक प्लान में होने की वजह से उसका प्रीमियम भी ज्यादा होता है। एलआईसी जीवन आनंद पॉलिसी से आप निकल जाएं और एक टर्म प्लान में पैसा लगाएं। टर्म प्लान में काफी ज्यादा कवर मिल सकता है। टैक्स बचाने के लिए पीपीएफ, एनपीएस, ईएलएसएस में पैसा लगाया जा सकता है।        


सवाल :
50 लाख रुपये का टर्म प्लान चाहिए। सबसे सस्ता और सबसे अच्छा विकल्प क्या है? पत्नी के लिए इंश्योरेंस लेना है किस कंपनी से कौन-सा प्लान लिया जा सकता है?     

पंकज मठपाल : टर्म प्लान में ऑनलाइन प्लान थोड़े सस्ते और फायदेमंद होते हैं। टर्म प्लान में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल का आई-प्रोटेक्ट या मेटलाइफ का मेट प्रोटेक्ट और कोटक लाइफ का ई-प्रेफेर्ड प्लान लिया जा सकता है। रेग्यूलर प्लान से प्रीमियम काफी कम लग सकता है। पत्नी के लिए भी टर्म प्लान लेने के बारे में सोच सकते हैं। 


सवाल : पूरे परिवार के लिए मेडिक्लेम पॉलिसी चाहिए। मां की उम्र 40 साल, छोटी बहन की 16 और स्वयं की उम्र 20 साल है। 6000 रुपये से ज्यादा प्रीमियम नहीं दे सकता। कितने का कवर मिलेगा? रिश्तेदार ने कहा की पॉलिसी लेते वक्त कंपनी को बीमारियों के बारे में न बताए। क्या करें?       

पंकज मठपाल : पॉलिसी लेते वक्त झूठी जानकारी नहीं देनी चाहिए। बीमारियां छिपाने पर क्लेम रिजेक्ट होने का खतरा होता है। पुरानी बीमारियों पर 3-4 साल के बाद ही कवर मिलता है। चोट की वजह से किसी बीमारी पर कवर मिल पाने की गारंटी नहीं होती है।        


वीडियों देखें