कैसे करें फाइनेंशियल प्लानिंग? -
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

कैसे करें फाइनेंशियल प्लानिंग?

प्रकाशित Tue, 12, 2011 पर 15:26  |  स्रोत : Moneycontrol.com

12 अप्रैल 2011

सीएनबीसी आवाज़



जानिए फ्रीडम फाइनेंशियल प्लानर के सीईओ सुमित वैद्य से फाइनेंशियल प्लानिंग पर सलाह -


सवाल : सैलरी 50,000 रुपये है, परिवार में मां और दो बच्चों को मिलाकर पांच सदस्य है। 4 साल के बेटे के लिए 2000 रुपये माह का एसआईपी करूं या एक पॉलिसी लूं? पॉलिसी कितने की होनी चाहिए? 


सुमित वैद्य :
बेटे या बेटी की पढ़ाई के लिए निवेश करने से पहले 2 बातों का ध्यान रखना जरुरी है। पहला ये कि निवेश प्लान का टर्म कितना है और प्लान खत्म होने के समय कितना पैसा मिलेगा। मान लीजिए कि आपको 18 साल की उम्र में आज के हिसाब से तकरीबन 10 लाख रुपये चाहिए। आप महंगाई को ध्यान में रखते हुए अंदाजा लगा सकते है कि जब आपका बच्चा 18 साल का होगा तक 10 लाख रुपये की कीमत क्या होगी। इस आधार पर अनुमान लगाके पता लगा सकते हैं कि हर महीना आपको कितना पैसा बचाना है।

कौन-से उपकरण समूह में, इक्विटी या फिक्सड इन्कम, म्यूचुअल फंड या इक्विटी में और कैसा और किस तरह का प्रोडक्ट होना चाहिए, जब तक आप यह तय नहीं करते तब तक आपकी फाइनेंशियल प्लानिंग पूरी नहीं है। इंश्योरेंस कराना आपका पहला कदम है जो आप लंबे समय के लिए निवेश कर रहे हैं। खुद के लिए टर्म प्लान लेना अच्छी बात है, लेकिन अगर आप भारी निवेश के रूप में यूलिप और एंडाओमेंट प्लान लेते हैं तो आपके निवेश पर कुल रिटर्न कम हो रहा है और आपकी निवेश की कीमत बढ़ रही है। वैसे ये इंश्योरेंस प्लान अपने आप में काफी अच्छे है लेकिन इंश्योरेंस और निवेश दोनों अलग-अलग चीजें है।

सवाल : फैमिली फ्लोटर लूं या इंडिविजुअल पॉलिसी? मां हृदय रोगी हैं। पॉलिसी कवर कितना होना चाहिए।    

सुमित वैद्य :
अपने और अपने परिवार के लिए अलग से इंश्योरेंस लें। आपको जल्द से जल्द मां के नाम पर मेडिकल इंश्योरेंस लेना चाहिए क्योंकि जैसे-जैसे उनकी उम्र बढ़ती जाएगी वैसे आपको कवर मिलना मुश्किल होता जाएगा। मां के लिए गंभीर बीमारियों का कवर लेना चाहिए। पहले से मौजूद बीमारियां चार साल के बाद ही कवर होगी। हालांकि मेडिकल इंश्योरेंस का शुल्क थोड़ा ज्यादा होगा।

सवाल : उम्र 35 साल है। 10-12 साल और काम करना चाहता हूं, रिटायरमेंट के लिए कहां निवेश करु? पेंशन प्लान लेना है। 
  

सुमित वैद्य : 12 साल बाद रिटायरमेंट चाहिए, तो 2.6 करोड़ रुपये जुटाने होंगे। इसलिए सालाना 52,000 रुपये का निवेश करना होगा। साथ ही इक्विटी-डेट रेश्यो 80:20 रखना जरुरी होगा।

सवाल : आमदनी 70,000 रुपये मासिक है, खर्च 20,000 रुपये माह, अब तक सिर्फ टैक्स बचाने के लिए निवेश किया है। रिटायरमेंट के लिए 1 करोड़ रुपये जुटाने हैं, अगले साल घर भी खरीदना है। 90-90 हजार रुपये की दो एफडी है, क्या डेट फंड में अलग से निवेश करना ठीक होगा?   

सुमित वैद्य : लगातार महंगाई समय के साथ पैसों की कीमत कम करती है। रिटायरमेंट प्लान के लिए अगर आप 1 करोड़ रुपये निवेश करते हैं तब रिटायरमेंट के समय 4 करोड़ 55 लाख के आसपास उसकी वैल्यू होगी। आपके लिए महीने का 19,000 हजार रुपये का रेगुलर सिस्टमेटिक इंवेस्टमेंट प्लान चाहिए, जिसके अंदर 80 फीसदी इक्विटी और 20 फीसदी डेट होना चाहिए। जैसे जैसे आपकी इन्कम बढ़ती जाए वैसे आप एसआईपी को बढ़ाते जाएं।

घर खरीदने के लिए 20 फीसदी का डाउन पेमेंट करने के लिए अभी से निवेश करें। बाकी 80 फीसदी के लिए आप होम लोन लें। 

सवाल : 20 साल तक के निवेश के लिए एचडीफसी इक्विटी प्लान, एचडीएफसी टॉप 200, डीएसपी-बीआर माइक्रो कैप ये सारे फंड कैसे है? हर महीना 15,000 रुपये लगा सकते हैं? अपने माता-पिता के लिए मेडिकल इंश्योरेंस लेना चाहती हूं? कंपनी की तरफ से फिलहाल कवर मिल रहा है, लेकिन फिर भी अलग से भी एक पॉलिसी लेनी है। माता की उम्र 57 साल और पिता की उम्र 62 साल है?

सुमित वैद्य :
आपको एक लक्ष्य रखकर निवेश करना चाहिए। लक्ष्य के जरिए कितने साल के बाद कितनी राशि चाहिए, और किस आधार पर रिटर्न कैलक्युलेशन, एसेट एलोकेशन फिर इसके आधार पर प्रोडक्ट तय किया जा सकता है। एचडीएफसी टॉप 200, डीएसपी-बीआर माइक्रो कैप ये दोनो फंड अच्छे है। एचडीएफसी टॉप 200 की स्कीम भी काफी अच्छी है। ये एक लार्जकैप डायवर्सिफाइड फंड है जो आपके लिए अच्छा है। डीएसपी-बीआर माइक्रो कैप फंड हाइ रिस्क, हाई रिटर्न फंड है।

माइक्रो कैप वो कंपनियां होती है, जिनकी कैपिटलाइजेशन बहुत कम होती है। लंबे समय में अच्छा रिटर्न देती है मगर ये काफी उतार-चढ़ाव भरा होता है। आप मूल्यांकन करके अपने लक्ष्य के अनुसार अच्छे फाइनेशियल प्लानर की सलाह से निवेश करें। 

कंपनी की तरफ से यदि मेडिक्लेम मिलता है फिर भी अलग से आप एक और पॉलिसी ले सकते हैं। जैसे जैसे उम्र बढ़ती जाएगी वैसे वैसे मेडिक्लेम मिलना मुश्किल होता है, इसलिए जल्द हेल्थ पॉलिसी ले लेनी चाहिए। अतिरिक्त राइडर की जगह गंभीर बीमारियों का कवर लेना बेहतर होगा।
   


वीडियो देखें