Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

आयकर रिफंड जल्दी कैसे पाएं!

प्रकाशित Sat, 07, 2011 पर 12:45  |  स्रोत : Moneycontrol.com

7 मई 2011

सीएनबीसी आवाज़



टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया के मुताबिक आमतौर पर आयकर विभाग को रिफंड की प्रक्रिया में लंबा समय लगता है। पहले करदाता रिटर्न भरते थे और अगर ज्यादा टैक्स कट जाता था तो रिफंड आने के लिए काफी समय इंतजार करना पड़ता था।



टैक्स गुरु के मुताबिक जल्दी रिफंड पाने के लिए करदाताओं को ऑनलाइन रिटर्न फाइल करने की सलाह दी जा रही है क्योंकि आयकर विभाग के लिए ई-रिटर्न फाइल करने वालों के रिफंड भेजना ज्यादा आसानी होता है।



टीडीएस के नए नियम-



टैक्स गुरु के मुताबिक अब आयकर सेक्शन 197 में 28एए के तहत एक नया नियम जो़ड़ा गया है। 28एए के तहत विभिन्न स्त्रोतों से आमदनी पाने वाले करदाताओं को ये सुविधा दी गई है कि अब वो एसेसिंग ऑफिसर को खुद भी कम टीडीएस काटने या टीडीएस ना काटने के सर्टिफिकेट के लिए अर्जी दे सकते हैं।



सुभाष लखोटिया के मुताबिक व्यवसाय. घर के किराए और अन्य स्त्रोंतो से आमदनी पाने वाले लोगों के लिए आयकर सेक्शन 197 में प्रावधान है। इसके तहत आयकर अधिकारी खुद ही करदाताओं के रिटर्न की जांच करके टीडीएस ना काटने या कम टीडीएस काटने का सर्टिफिकेट जारी कर सकते थे।



पहले ये सर्टिफिकेट करदाता को जारी किए जाते थे लेकिन नए नियम के बाद ये सर्टिफिकेट सीधे आयकर काटने वाले अधिकारी के पास भेजा जाएगा। करदाता के पास इस सर्टिफिकेट की डुप्लीकेट कॉपी भेजी जाएगी।



इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए फॉर्म 13 के अपेंडिक्स-2 के तहत जरूरी जानकारी देनी होगी। फॉर्म में करदाताओं को कई तरह की जरुरी जानकारी देनी होती है। पिछले 3 साल की आय, आयकर रिटर्न की कॉपी, एडवांस टैक्स की सूचना आदि भरकर देनी होगी और इसके आधार पर टीडीएस की जांच होने के बाद टैक्स में छूट मिल सकती है।



एक परिवार के लोग बचाएं टैक्स-

टैक्स गुरु के मुताबिक अगर आपको अपने सगे संबंधी से कुछ पूंजी उपहार के रूप में मिलती है तो आपके ऊपर कोई टैक्स नहीं लगेगा। साथ ही अगर अपने पिता से लोन के रूप में कुछ पूंजी ली है तो इस पर भी टैक्स नहीं लगेगा। अगर इस कर्ज के लिए पिता को ब्याज भी देते हैं तो 1,50,000 रुपये तक के ब्याज पर टैक्स छूट का फायदा भी उठाया जा सकता है।



ईएलएसएस डिविडेंड पर टैक्स छूट-

सुभाष लखोटिया के मुताबिक ईएलएसएस के डिविडेंड को दुबारा निवेश करने पर टैक्स में छूट नहीं मिलती है।


वीडियो देखें