Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू की टैक्स बचाने की टिप्स

प्रकाशित Sat, 11, 2011 पर 15:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

11 जून 2011

सीएनबीसी आवाज़



लॉन्ग टर्म कैपिटल लॉस पर टैक्स बचत

टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया के मुताबिक लंबे समय तक नॉन लिस्टेड कंपनियों का लॉन्ग टर्म कैपिटल लॉस 8 सालों के लिए कैरी फॉर्वर्ड किया जा सकता है। इसके अलावा लिस्टेड नॉन लिस्टेड शेयरों को बेचने पर होने वाले शॉर्ट टर्म कैपिटल लॉस को भी 8 सालों के लिए कैरी फॉर्वर्ड किया जा सकता है।



1 साल से ज्यादा लंबे समय तक शेयरों के रखने पर होने वाले फायदे को लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन कहते हैं। 1 साल से ज्यादा शेयर बेचने पर मिलने वाले लाभ को लॉन्ग टर्म कैपिटल लॉस कहा जाता है। वहीं 1 साल से कम में शेयरों के बेचने पर मिलने वाले मुनाफे-घाटे को शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन-लॉस कहा जा सकता है।



कैश उपहार पर टैक्स बचाने की टिप्स


अगर कोई पुत्र अपने पिता से कर्ज लेता है और इस कर्ज पर पिता को ब्याज देता है तो बेटा इस राशि पर टैक्स में छूट का फायदा उठा सकता है। वहीं पिता को बेटे को दिए गए कर्ज पर मिलने वाले मिलने वाले ब्याज पर टैक्स चुकाना होगा।



टैक्स गुरु के मुताबिक शादी पर मिलने वाले उपहारों पर टैक्स नहीं लगता है। शादी पर मिलने वाले गहनों, कैश पर टैक्स देनदारी नहीं बनती है।



हालांकि एक बात का ख्याल रखना चाहिए कि शादी की सालगिरह पर मिलने वाले 50,000 रुपये तक के उपहारों पर ही टैक्स छूट का फायदा मिल सकता है। 50,000 रुपये से ज्यादा के कैश उपहार, गहनों पर टैक्स देना होगा।



अगर कोई महिला पिता से उपहारस्वरूप मिली पूंजी को शेयर और कमोडिटी में लगाती है और इस पर सालाना मुनाफा 1,90,000 रुपये से कम होता है तो आपको इस पर किसी तरह का टैक्स नहीं देना होगा। शेयर, कमोडिटी ट्रेडिंग से 1,90,000 रुपये से ज्यादा की कमाई पर महिला टैक्स देनदारी के दायरे में आ जाएगी।



जमीन बेचने पर कैसे बचाएं टैक्स-


ग्रामीण इलाकों में कृषि भूमि बेचने पर लॉन्ग टर्म कैपिटल टैक्स की देनदारी नहीं बनती बशर्ते आपको पूरी रकम चेक के जरिए मिली हो। वहीं शहरी इलाकों में कृषि योग्य भूमि बेचने पर लॉन्ग टर्म कैपिटल टैक्स देना पड़ता है।



वीडियो देखें