Moneycontrol » समाचार » बीमा

यूलिप बनाम बफे एंडोमेंट

प्रकाशित Thu, 03, 2010 पर 15:19  |  स्रोत : Hindi.in.com

शालिनी अमरनानी
हम आदेश पर तैयार समाधान की दुनिया में रहते हैं। हर कोई आपकी पसंद की सुविधा देने को तैयार है। सबसे ज्यादा जरूरत है वित्तीय नियोजन की। आप यह काम खुद मुफ्त में कर सकते हैं।

वित्तीय योजना बनाने वाले के लिए बीमा सबसे बड़ा सवाल है। तेजी से घटनाक्रम बदल रहा है। सैंकड़ों विकल्प खुल रहे हैं। आपको अपनी जरूरत के हिसाब से बीमा विकल्प चुनना चाहिए।

हमारी पाठक 25 वर्षीय सुचिंत्या को ही लें। वह हर माह 60,000 रुपए कमाती है। उस पर निर्भर कोई भी नहीं। लेकिन वह अपनी शादी और अपने माता-पिता का सहारा बनने की योजना तैयार कर रही है।

क्या उसे यूलिप खरीदनी चाहिए? उसे टर्म पालिसी या जीवन भर की पालिसी में से कौन सी लेनी चाहिए?
~ एक यूलिप में दो लाभ होते हैं, बीमा और निवेश। फीस व शुल्क कटने के बाद प्रीमियम का बचा भाग बीमा में कवर खरीदने में जाता है। शेष निवेश किया जाता है। फंड का ट्रैक रिकार्ड भी आपको देखना चाहिए। इसलिए यूलिप में सुरक्षा के अलावा लचीलापन भी है।

~ परंपरागत पालिसी भी इसी हिसाब से काम करती हैं। प्रीमियम का एक भाग जीवन बीमा के लिए अलग रखा जाता है। एक बार शुल्क काटने के बाद बाकी धन फंड में निवेश किया जाता है। अंतर यह है कि आपको ब्रेक अप बता नहीं, न ही उसका प्रदर्शन या प्रतिफल मिलने का तरीका।

रिटर्न आपको बोनस के आकार में मिलते हैं, लेकिन आपको फंड से लाभ मिलेगा या हिस्सा मिलेगा इसकी जानकारी नहीं है। एंडोमेंट पालिसी का चुनाव करना चाहिए जिसमें जीवन बीमा कवर मिलता है और अंत में मैच्योरिटी मूल्य भी। आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस के सीनियर वाइस प्रसिडेंट प्रणव मिश्रा का कहना है कि दोनों योजनाओं का मूल अंतर यह है कि परंपरागत पालिसी बचत को प्रोत्साहित करती हैं, वहीं यूलिप निवेश के जरिए ज्यादा लाभ के अवसर प्रदान करती हैं।
सही चुनाव करें

वाटसन वाट वर्ल्डवाइड में बीमा और वित्तीय सेवाओं के सीनियर कंसलटेंट संकेत कावटकर का कहना है कि यूलिप में जोखिम घटाने के लिए फंड का विकल्प होता है, लेकिन परंपरागत पालिसी में निवेश के फैसले आक्रामक निवेशक खुद लेते हैं। वे बोनस के जरिए प्रतिफल की गारंटी देते हैं।

फिर सुचिंत्या पर आते हैं। वह नौजवान है और निवेश का लंबा समय है, वह इक्विटी पर भी निवेश के लिए निर्भर रह सकता है। इंडिया इंश्योर रिस्क मैनेजमेंट में एमडी वी रामकृष्णन का कहना है कि यूलिप में इक्विटी आप्शन के साथ निवेश उसके लिए परंपरागत निवेश योजना के मुकाबले बेहतर रहेगा।