Moneycontrol » समाचार » टैक्स

इनकम टैक्स पर टैक्स गुरु की सलाह

प्रकाशित Sat, 02, 2011 पर 13:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

2 जुलाई 2011

सीएनबीसी आवाज़



टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया दे रहे हैं इनकम टैक्स पर सलाह।


सवाल: मेरी इनकम टैक्स के दायरे में नहीं आती है। क्या नये सहज फॉर्म-1 का इस्तेमाल साल 2010-11 का रिटर्न भरने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं ?


सुभाष लखोटिया: साल 2010-11 की रिटर्न के लिए सहज फॉर्म-1 का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। नये सहज फॉर्म-1 से साल 2011-12 का रिटर्न भर सकते हैं। बीते साल का रिटर्न फाइल करने के लिए सरल फॉर्म-2 का इस्तेमाल करें। वहीं आय टैक्स छूट सीमा से कम होने पर रिटर्न भरना जरूरी नहीं होता।


सवाल: मेरी सालाना इनकम 5 लाख रुपये है। क्या इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना पड़ेगा ?


सुभाष लखोटिया: 31 मार्च 2011 को खत्म हुए साल में इनकम 5 लाख रुपये सालाना है तो इनकम टैक्स भरना जरूरी है। 80 साल या उससे ऊपर की आय वालों को ऐसे मामलों में छूट दी गई है। वहीं एम्पलॉयर की ओर से दिया गया टीडीसी सर्टिफिकेट भी रिटर्न माना जा सकता है।


सवाल: मैं घर में 11-12 क्लास के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती हूं। टैक्स भरने लिए कौन सा आईटीआर फॉर्म भरना होगा ?


सुभाष लखोटिया: ट्यूशन से होने वाली इनकम यदि प्रोफेशनल इनकम है तो आईटीआर 1 फॉर्म भरें। वहीं ट्यूशन में इनकम दूसरे स्त्रोतों के द्वारा आती है तो आईटीआर 4 फॉर्म भरना पड़ता है।


सवाल: साल 2008-09 में कंपनी ने टीडीएस काटकर सर्टिफिकेट दिया जिसके बाद मैंने रिटर्न भी भरा, लेकिन अब तक रिफंड नहीं मिला क्या करें ?


सुभाष लखोटिया: रिटर्न भरने के बाद इनकम टैक्स विभाग से रिफंड मिलना चाहिए। इनकम टैक्स विभाग को टैक्स भरी हुई रसीद सबूत के तौर पर पेश करें। समाधान नहीं होने पर आयकर अधिकारी के पास इसकी शिकायत करें।


वीडियो देखें