Moneycontrol » समाचार » रिटायरमेंट

सेवानिवृत्ति योजना

प्रकाशित Sat, 12, 2010 पर 12:42  |  स्रोत : Hindi.in.com

12 जून, 2010


moneycontrol.com


 


सेवानिवृत्ति का अर्थ सिर्फ़ बागवानी और पढ़ना ही नहीं है। अगर इसकी सही योजना बनाई जाए, तो यह जीवन का सर्वश्रेष्ठ समय बन सकता है, और वह भी बच्चों की ज़िम्मेदारी के बिना, जिन पर ध्यान देने की ज़रूरत पड़ती है और कर्ज़ के बिना, जिनके भुगतान का ध्यान रखना होता है। 


निम्न बिंदुओं के आधार पर आप अपनी सेवानिवृत्ति की योजना बन सकते हैं:


 



अपनी सेवानिवृत्ति की योजना बनाने के लिए आपको चाहिए – समय




जल्दी शुरू करें। जोड़ने की क्षमता का उपयोग करें जिससे छोटी राशि भी एक महत्वपूर्ण में पूंजी में बदल सकती है। अपने निवेश की एक छोटी राशि को एक उपयुक्त पेंशन विकल्प में डालना शुरू करें। 




प्रतिबद्धता



इसके लिए अनुशासन की आवश्यकता है। आपका खर्च कितना है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, सेवानिवृत्ति तक आपके लक्ष्य की ओर आपकी बचत नियमित रूप से जानी ही चाहिए। यह बात अक्सर कहने में आसान लगती है, बनिस्बत करने के क्योंकि आपकी तात्कालिक ज़रूरतें, भविष्य की आवश्यकताओं की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण महसूस हो सकती हैं।



समायोजन



आपके सेवानिवृत्त होने तक कीमतें बढ़ जाएंगी और सेवानिवृत्ति के बाद भी बढ़ती रहेंगी। जहां तक कीमतों का सवाल है, वे आजीवन बढ़ती ही रहने वाली हैं। आपका जीवन स्तर बदल सकता है। बल्कि पिछले कुछ सालों में महंगाई की तुलना में आपका खर्च बहुत अधिक बढ़ चुका होगा।




विस्तृत विवरण



अपनी सेवानिवृत्ति के लिए बुनियादी खर्चों की गणना करते समय, उन खर्कों को शामिल करना नहीं भूलें जिनका वहन अभी आपकी कंपनी करती है। चिकित्सा या यात्रा खर्च आपको अभी भारी नहीं लगते होंगे, लेकिन बाद में ये आपको परेशान करेंगे, क्योंकि तब ये आपको स्वयं उठाने होंगे।




सही विकल्प चुनना



इस समय अपने वार्षिक वितरण चक्र एवं सेवा प्रदाता पर अपने विकल्प खुले रखें। जब भारत में पेंशन विकल्प खुलेंगे, हमें और भी उपयुक्त विकल्प मिलने लगेंगे।


लेकिन तब तक निम्न पर ध्यान दें:



लॉक-इन आपके पेंशन योजना में किसी भी तरह का लचीलापन या लिक्विडिटी विकल्प नहीं होना चाहिए। योगदान (पूंजी निर्माण) के दौरान किसी भी तरह के लिक्विडिटी या पैसे निकालने के विकल्प से दूर रहें। आपकी सेवानिवृत्ति के समय से आपके द्वारा निर्मित पूंजी किसी भी आकस्मिक वार्षिक विकल्प के लिए उपलब्ध होनी चाहिए।

लागत



युनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान, जिसे सामान्यतः यूलिप कहा जाता है, लंबी अवधि के लिए अच्छे विकल्प हैं। लेकिन जब आप युनिट लिंक्ड योजनाएं चुनते हैं, तब आपको पूरे लागत चक्र पर ध्यान देना होता है, जो फ़ंड के प्रदर्शन के साथ-साथ लंबी अवधि में कुल लाभ को भी नुकसान पहुंचाता है।


कर लाभ



किसी भी पेंशन योजना के कर लाभों को समझें। आपकी संचित राशि कर-मुक्त होनी चाहिए; केवल प्राप्ति के समय वार्षिक पूंजी पर कर लगना चाहिए। जब आप सेवानिवृत्त होंगे, आपको अपना वार्षिक चक्र को आकार देने के लिए वैकल्पिकता मिलेगी, इसलिए आप इसे मैच्योरिटी के समय प्राप्त कर सकते हैं, बढ़ती कर दरों के आधार पर। उस समय की कर संरचना के बारे में अनुमान लगाना जोखिम भरा हो सकता है।



ध्यान रखें



कोशिश करें कि अतिरिक्त मुनाफों की ओर ध्यान नहीं दें। इन सभी की कीमत आपको चुकानी पड़ेगी, इसलिए, मैच्योरिटी लाभों को कम करें। किसी भी सेवानिवृत्ति योजना द्वारा केवल अधिकतम सेवानिवृत्ति पूंजी ही निर्मित होनी चाहिए।


 


ऐसी युक्तियों से आपका सेवानिवृत्ति काल आनंदप्रद बन सकता है।