Moneycontrol » समाचार » टैक्स

डायरेक्ट टैक्स कोडः क्या फायदे, क्या नुकसान!

प्रकाशित Sat, 24, 2011 पर 14:03  |  स्रोत : Moneycontrol.com

moneycontrol.com



वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने शीतकालीन सत्र में डायरेक्ट टैक्स कोड यानि डीटीसी को पारित करने का भरोसा दिलाया है। ऐसे में अप्रैल 2012 से डीटीसी के लागू होने की संभावना बढ़ गई है। आइए जानते हैं कि डीटीसी के जरिए आपकी झोली में क्या आएगा और कितना नुकसान आपको पहुंचाएगा।



डीटीसी से जुड़ी अच्छी बातें



1. डीटीसी के चलते ही न्यूनतम कर दायरे को 1.6 लाख रुपये से बढ़ाकर 2 लाख रुपये किया गया। इस फैसले से आपको 41,000 रुपये की बचत करने में मदद मिली है।



2. आसान कैपिटल गेन टैक्स



इक्विटी पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स के तहत सिर्फ आधी कमाई पर ही कर टैक्स वसूला जाएगा। वहीं इक्विटी पर लगने वाले लंबी अवधि के कैपिटल गेन टैक्स को खत्म कर दिया गया है। प्रॉपर्टी से मिलने वाली अतिरिक्त रकम को आय में जोड़ा जाएगा।



3. कर छूट की सीमा 1.2 लाख रुपये से बढ़कर 1.5 लाख रुपये



डीटीसी की वजह से आपको अपने निवेश पर कर छूट में ज्यादा सहूलियत मिलने वाली है। अब डीटीसी के तहत आप पुराने नियमों के आधार पर 1 लाख रुपये की छूट हासिल कर सकते हैं लेकिन एनपीएस, ईपीएफ और पीपीएफ जैसे पेंशन फंडों में निवेश करना होगा। आप अपने बच्चे की पढ़ाई पर किए गए 50,000 रुपये के खर्च पर टैक्स छूट हासिल कर पाएंगे। इसप्रकार, आपके पास 1.5 लाख रुपये तक की टैक्स छूट हासिल करने का मौका होगा।



4. जीपीएफ, पीपीएफ और जीवन बीमा पर ईईई के तहत छूट



पहले आपको टैक्स नियमों के तहत जीपीएफ, पीपीएफ और जीवन बीमा में किया गया निवेश टैक्स नियमों के ईईई अधिनियम के अनुसार टैक्स फ्री मानी जाती थी लेकिन निवेश निकालने पर आपको टैक्स देना पड़ता है। लेकिन अब डीटीसी के प्रस्तावित नियमों के तहत निवेश के निकासी पर भी टैक्स छूट मिलेगी।



5. मेडिकल मुआवजे का लाभ



डीटीसी के प्रस्तावित नियमों के तहत अब आपको मेडिकल मुआवजे के रूप में 15,000 रुपये की बजाय 50,000 रुपये की छूट मिलेगी।



डीटीसी से जुड़ी खराब बातें



1. डीटीसी के तहत अब आपको लंबी छुट्टी पर जाने के बाद मिलने वाले मुआवजे का फायदा नहीं मिल पाएगा।



2. डीटीसी के तहत महिलाओं को कोई अतिरिक्त छूट नहीं मिल पाएगी।



3. एनआरआई को भारत में 60 दिनों से ज्यादा कमाई करने पर टैक्स देना पड़ेगा। पहले यह सीमा 180 दिनों की थी।



यह लेख बैंकबाजार डॉट कॉम से साभार लिया गया है।