Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस प्लान लेते समय रहें सावधान

प्रकाशित Sat, 01, 2011 पर 10:19  |  स्रोत : Moneycontrol.com

1 अक्टूबर 2011

सीएनबीसी आवाज़



एजेंट के झांसे और सीमित जानकारी की वजह से कई बार ग्राहक गलत इंश्योरेंस प्लान ले लेते हैं। जो की व्यक्ति की जरूरतों और उद्देशय की पूर्ति नहीं कर पाते। ऐसी ही समस्याओं के समाधान के लिए अपना पैसा डॉटकॉम के हर्ष रूंगटा दे रहे हैं सलाह।


सवाल: मेरी उम्र 24 साल है और सालाना आय 60 हजार रुपये है, मुझपर फिलहाल कोई भी निर्भर नहीं है। मैं एक टर्म प्लान लेना चाहता हूं। कौन सा प्लान लूं और इसके लिए क्या प्रूफ देना होता है?


हर्ष रूंगटा: कोई निर्भर नहीं है तो इंश्योरेंस प्लान लेना सही नहीं होगा। यदि फिर भी टर्म प्लान लेना चाहते हैं तो 30 साल के लिए 10 लाख रुपये का कवर ले सकते हैं। जिसके लिए हर महीने 200-300 रुपये देने होंगे। वहीं टर्म प्लान लेने के लिए बैंक स्टेटमेंट या सैलेरी स्लिप दिखाई जा सकती है।


सवाल: मैं एक रिटायर्ड व्यक्ति हूं, मेरी उम्र 67 साल है और पत्नी की उम्र 65 साल है। मैं खुद के और पत्नी के लिए इंश्योरेंस प्लान लेना चाहता हूं। कौन सा प्लान लेना बेहतर रहेगा?


हर्ष रूंगटा: इंश्योरेंस प्लान में व्यक्ति की उम्र सबसे अहम होती है। उम्र के मुताबिक ही इसका प्रीमियम भी तय होता है। 67 और 65 साल की उम्र में इंश्योरेंस प्लान मिलना मुश्किल होता है। इंश्योरेंस प्लान लेने की बजाय हेल्थ प्लान लेना सही रहेगा। यूनाइटेड इंडिया मेडीक्लेम सीनियर सिटीजन के लिए एक बेहतर प्लान है।


सवाल: मैंने 2009 में एचडीएफसी की का सेविंग एश्योरेंस प्लान निवेश के नजरिए से लिया था। जिसमें 50-50 हजार रुपये के 2 सालाना प्रीमियम भी भर चुका हूं। मैं पॉलिसी को सरेंडर करना चाहता हूं। ऐसे मे सरेंडर चार्ज कितना मिलेगी?


हर्ष रूंगटा: निवेश और इंश्योरेंस दोनों ही अलग चीजे हैं। इन्हें कभी भी एक नहीं करना चाहिए। निवेश के लिए इश्योरेंस में पैसा लगाने की बजाय म्यूचुअल फंड में पैसा लगाएं। पॉलिसी का तीसरा प्रीमियम भी भरें और बैंक से पॉलिसी के सरेंडर चार्ज की पूरी जानकारी लेने के बाद की पॉलिसी को सरेंडर करें।


वीडियो देखें