Moneycontrol » समाचार » निवेश

एमआईपीः छोटी अवधि का बढ़िया निवेश

प्रकाशित Wed, 05, 2011 पर 15:22  |  स्रोत : Moneycontrol.com

moneycontrol.com



हाल के दिनों में म्यूचुअल फंड के मंथली इनकम प्लान यानि एमआईपी काफी चर्चा में आए हैं। एमआईपी में फिक्सड डिपॉजिट की तरह निवेश सुरक्षित लेकिन ज्यादा रिटर्न मिलता है। कम जोखिम के साथ अच्छे रिटर्न के लिए एमआईपी में निवेश किया जा सकता है। लेकिन निवेशकों को सावधान होने की जरुरत है और इस प्रोडक्ट के नाम पर ने जाएं।



एमआईपी एक हाइब्रिड इंवेस्टमेंट है जो म्यूचुअल फंडों की ओर से बाजार में लाया जाता है। एमआईपी का 5-25 फीसदी हिस्सा इक्विटी और बाकी हिस्सा डेट एवं मनी मार्केट में निवेश किया जाता है। इक्विटी के जरिए फंड को अच्छे रिटर्न की उम्मीद होती है। एमआईपी में नियमित अंतराल पर रिटर्न मिलता है लेकिन निवेशक के विकल्प चुनने के अनुसार ही रिटर्न दिया जाता है। एमआईपी में मासिक, तिमाही, छमाही और सालाना विकल्प का चुनाव कर सकते हैं। एमआईपी में ग्रोथ विकल्प भी मौजूद होते हैं लेकिन इस विकल्प में डिविडेंड नहीं मिलता।



एमआईपी ऐसे निवेशकों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है जो ज्यादा जोखिम नहीं ले सकते हैं। इसके अलावा कर देने के बाद भी एमआईपी से अच्छे रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है। एमआईपी के तहत अब कई फंड हाउस सोने में निवेश का प्रचलन बढ़ा रहे हैं।



बाजार की भारी गिरावट में एमआईपी में ज्यादा गिरावट की गुंजाइश नहीं रहती है। अस्थिर बाजार के दौर में एमआईपी का निवेश डेट में बढ़ जाता है। वहीं डेट में गिरावट पर इक्विटी में किया निवेश एमआईपी को सहारा देता है।



एमआईपी में निवेश से पहले ये मानकर चलें कि आपका रिटर्न निश्चित नहीं होगा। एमआईपी का रिटर्न शेयर बाजार, अर्थव्यवस्था और कॉर्पोरेट सेक्टर पर निर्भर करता है। वहीं डिविडेंड वाले एमआईपी में भी सोच समझकर निवेश करना चाहिए। लेकिन कभी कभार ऐसा भी हो सकता है कि फंड का प्रदर्शन खराब रहे तो डिविडेंड की घोषणा होना संभव नहीं है। दरअसल कई फंड हाउस निवेशकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए लगातार डिविडेंड की घोषणा करते हैं। ऐसे में फंड हाउसों की बिक्री की इस तरकीब को भांपने की जरूरत है।



एमआईपी में निवेश करने से पहले निवेशक को फंड हाउस के पोर्टफोलियो की पड़ताल करना बेहद जरूरी है। पोर्टफोलियो की गहन जांच के बाद ही एमआईपी में निवेश का फैसला करें।



इस लेख की लेखिका श्रुति जैन हैं, जो अरिहंत कैपिटल मार्केट्स की सीनियर वाइस-प्रेसीडेंट हैं।