Moneycontrol » समाचार » टैक्स

वर्तमान वित्त वर्ष में कैसे करें टैक्स बचत

प्रकाशित Tue, 15, 2011 पर 12:15  |  स्रोत : Moneycontrol.com

15 नवंबर 2011

सीएनबीसी आवाज़



अधिकांश नियोक्ताओं ने टीडीएस कटौती के लिए अपने कर्मचारियों से टैक्स बचत के लिए किए जाने वाले निवेश का ब्योरा माँगना प्रारंभ कर दिया है। साथ ही प्रोफेशनल एवं व्यापारी वर्ग को भी अपनी टैक्स देयता का अनुमान लगाकर समय-समय पर एडवांस टैक्स अदा करना है। ऐसे में समय आ गया है कि हम टैक्स प्लानिंग कर लें।

हम सभी जानते हैं कि अधिकांश टैक्स बचत के लिए किए जाने वाले निवेश में लंबी अवधि की बाध्यता होती है। जैसे यदि हम बचत के लिए कोई इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं एवं उसकी अवधि 10 वर्ष है तो हमें 10 वर्षों तक प्रत्येक वर्ष उसकी प्रीमियम अदा करना होगी। टैक्स बचत के साधनों में लंबी अवधि की बाध्यता होने के कारण इस वर्ष हमें प्लानिंग काफी सतर्कतापूर्वक करने की आवश्यकता है, क्योंकि 1 अप्रैल 2012 से डायरेक्ट टैक्स कोड (डीटीसी) लागू होना प्रस्तावित है। प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड (डीटीसी) में टैक्स बचत के साधनों में भारी फेरबदल किया गया है। अतः इस वर्ष प्लानिंग के लिए हमें वर्तमान टैक्स स्लेब एवं टैक्स प्रावधानों के साथ प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड (डीटीसी) के प्रावधानों को भी समझना आवश्यक है।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान वित्तीय वर्ष 2011-12 में महत्वपूर्ण बदलाव कर वरिष्ठ नागरिक की आयु पात्रता 65 वर्ष से घटाकर 60 वर्ष कर दी गई है। साथ ही 80 वर्ष या अधिक आयु के व्यक्तियों को अति वरिष्ठ नागरिक का दर्जा दिया गया है। इसके तहत उन्हें रु. 5,00,000 तक की आय पर कोई टैक्स नहीं देना होगा।

वर्तमान वित्तीय वर्ष 2011-12 (कर निर्धारण वर्ष 2012-13) में विभिन्न करदाताओं के लिए टैक्स स्लेब निम्न अनुसार है :

पुरुष एवं एचयूएफ करदाता (आय रु. में)
180000 तक                    0%
180001 से 500000 तक 10%
500001 से 800000 तक 20%
800001 या अधिक         30%

महिला करदाता (आय रु. में)
190000 तक                    0%
190001 से 500000 तक 10%
500001 से 800000 तक 20%
800001 या अधिक         30%


वरिष्ठ नागरिक (60 वर्ष से 79 वर्ष) करदाता(आय रु. में)
250000 तक                    0%
250001 से 500000 तक 10%
500001 से 800000 तक 20%
800001 या अधिक         30%

अति वरिष्ठ नागरिक (80 वर्ष या अधिक) करदाता(आय रु. में)

                   
500000 तक                    0%
500001 से 800000 तक 20%
800001 या अधिक         30%

वर्तमान वित्तीय वर्ष 2011-12 (कर निर्धारण वर्ष 2012-13) में व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता ग्रास टोटल इंकम से विभिन्न धाराओं के तहत छूट प्राप्त कर सकते हैं। इन धाराओं के तहत प्राप्त की जाने वाली छूट एवं डीटीसी के प्रावधान निम्न  प्रकार हैं-

* धारा 80 सी, 80 सीसीसी एवं 80 सीसीडी के तहत अधिकतम रु. 100000 की छूट प्राप्त की जा सकती है। इस छूट के लिए निम्न साधनों में निवेश अंशदान/पेमेंट किया जा सकता है।

जीवन बीमा पॉलिसी का प्रीमियम
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत एवं एचयूएफ
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- जीवन बीमा प्रीमियम, बीमाधन की राशि का अधिकतम 5% एवं बच्चों की ट्‍यूशन फीस, मेडिक्लेम प्रीमियम की राशि मिलाकर अधिकतम रु. 50000

बच्चों की ट्‍यूशन फीस
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- जीवन बीमा प्रीमियम, बीमाधन की राशि का अधिकतम 5% एवं बच्चों की ट्‍यूशन फीस, मेडिक्लेम प्रीमियम की राशि मिलाकर अधिकतम रु. 50000

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ)
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- स्वीकृत फंड (न्यू पेंशन स्कीम, पीपीएफ एवं ईपीएफ आदि में अधिकतम रु 100000)

इम्पलॉइज प्रॉविडेंट फंड (ईपीएफ)
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- स्वीकृत फंड (न्यू पेंशन स्कीम, पीपीएफ एवं ईपीएफ आदि में अधिकतम रु 100000)

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएसपी)
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- छूट का प्रावधान नहीं

म्यूच्युअल फंड (इक्विटी लिन्कड सेविंग स्कीम)
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत एवं एचयूएफ
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- छूट का प्रावधान नहीं

हाउसिंग लोन रिपेमेंट
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत एवं एचयूएफ
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- छूट का प्रावधान नहीं

हाउस प्रापर्टी पर चुकाए गए स्टाम्प शुल्क, ‍रजिस्ट्रेशन फीस आदि
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत एवं एचयूएफ
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- छूट का प्रावधान नहीं

टैक्स सेविंग टाइम डिपाजिट (बैंक एवं पोस्ट ऑफिस)
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत एवं एचयूएफ
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- छूट का प्रावधान नहीं

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- छूट का प्रावधान नहीं

पेंशन फंड में अंशदान
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- स्वीकृत फंड (न्यू पेंशन स्कीम, पीपीएफ एवं ईपीएफ आदि में अधिकतम रु 100000)

न्यू पेंशन स्कीम में अंशदान
कौनसे कर दाता- व्यक्तिगत
प्रस्तावित डीटीसी में प्रावधान- स्वीकृत फंड (न्यू पेंशन स्कीम, पीपीएफ एवं ईपीएफ आदि में अधिकतम रु 100000)


* धारा 80 सीसीएफ के तहत व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता इंफ्रास्ट्रक्चर बांड में निवेश पर अधिकतम     20 हजार रुपए की छूट प्राप्त कर सकते हैं। यह छूट धारा 80 सी, 80 सीसीसी एवं 80 सीसीडी के तहत प्राप्त हो रही एक लाख रुपए की छूट के अतिरिक्त है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के प्रावधानों के तहत यह छूट प्राप्त नहीं की जा सकेगी।

* धारा 80 डी के तहत स्वयं, पत्नी/पति एवं बच्चों के मेडिक्लेम पॉलिसी की सालाना प्रीमियम पर अधिकतम 15000 रुपए तक की आय में छूट प्राप्त की जा सकती है। सीनियर सिटीजन की दशा में 20000 रुपए तक की छूट प्राप्त की जा सकती है। माता-पिता की मेडिक्लेम पॉलिसी की सालाना प्रीमियम 15000 रुपए (सीनियर सिटीजन की दशा में 20000 रुपए) तक की भी अतिरिक्त छूट प्राप्त की जा सकती है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के प्रावधानों के तहत जीवन बीमा प्रीमियम (बीमाधन का 5% से अधिक नहीं), मेडिक्लेम प्रीमियम एवं बच्चों की ट्यूशन फीस मिलाकर अधिकतम 50 हजार रुपए की ही छूट प्राप्त की जा सकेगी।

* धारा 80 डीडी के तहत व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता असक्षम आश्रित के मेडिकल ट्रीटमेंट आदि पर यदि खर्च करते हैं या उसके लिए अनुमोदित फंड में निवेश करते हैं तो आश्रित के सामान्य असक्षमता की स्थिति में 50 हजार रुपरए एवं गंभीर असक्षमता की स्थिति में एक लाख रुपए की छूट प्राप्त की जा सकती है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के प्रावधानों के तहत भी यह छूट प्राप्त की जा सकेगी।

* धारा 80 डीडीबी के तहत व्यक्तिगत एवं एचयूएफ करदाता स्वयं अपने या आश्रित की उक्त धारा में उल्लेखित बीमारी के उपचार पर यदि कोई खर्च करते हैं तो उस दशा में अधिकतम 40 हजार रुपए तक की छूट प्राप्त की जा सकती है। सीनियर सिटीजन की दशा में यह छूट 60 हजार रुपए तक प्राप्त की जा सकती है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के तहत भी यह छूट प्राप्त की जा सकेगी।

* धारा 80 ई के तहत व्यक्तिगत करदाता स्वयं, जीवनसाथी या बच्चों की उच्च शिक्षा के लोन पर चुकाए गए ब्याज की छूट प्राप्त कर सकते हैं।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के तहत भी यह छूट प्राप्त की जा सकेगी।

* धारा 80 जी के तहत कोई भी करदाता चेरिटेबल संस्था/कोष को दान देता है तो निर्धारित सीमा तक छूट प्राप्त की जा सकती है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के तहत भी छूट प्राप्त की जा सकेगी।

* धारा 80 जीजी के तहत व्यक्तिगत करदाता यदि मकान किराया अदा कर रहा है एवं उसे हाउस रेंट अलॉएन्स (एचआरए) नहीं मिल रहा है तो अधिकतम दो हजार रुपए प्रतिमाह की छूट भी प्राप्त की जा सकती है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के तहत भी यह छूट प्राप्त की जा सकेगी।

* धारा 80 यू के तहत व्यक्तिगत करदाता, स्वयं यदि सामान्य असक्षम है तो 50 हजार रुपए एवं गंभीर असक्षमता की स्थिति में एक लाख रुपए की छूट प्राप्त कर सकता है।

प्रस्तावित डायरेक्ट टैक्स कोड के तहत भी यह छूट प्राप्त की जा सकेगी।


यह लेख अरिहंत कैपिटल मार्केट के चीफ फाइनेंशियल प्लानर उमेश राठी ने लिखा है। umesh.rathi@arihantcapital.com पर उमेश राठी से संपर्क किया जा सकता है।