Moneycontrol » समाचार » निवेश

मौजूदा बाजार में निवेश के विकल्प

प्रकाशित Sat, 24, 2011 पर 14:46  |  स्रोत : Moneycontrol.com

24 दिसंबर 2011

सीएनबीसी आवाज़



बाजार के उतार-चढ़ाव भरे माहौल में निवेशकों के पास कौनसे ऐसेट क्लास में निवेश के विकल्प मौजूद है, इस पर जानकारों के सुझाव-



ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के डायरेक्टर, पंकज मठपाल का कहना है कि लंबी अवधि के लिए निवेश करना है तो पोर्टफोलियो में इक्विटी में निवेश जरूर रखें। फिलहाल छोटी अवधि में बाजार की खराब स्थिति को देखते हुए निवेशक डेट फंड, डेट साधनों में निवेश करते रहें।



बाजार की स्थिति के आधार पर निवेशक अपने पोर्टफोलियो में इक्विटी और डेट का संतुलन बनाकर रखें। बाजार में कोई भी ऐसेट क्लास हमेशा एक जैसा रिटर्न नहीं देते हैं, इसलिए समय समय पर अपने पोर्टफोलियो की जांच करते रहें।



लैडरअप वैल्थ मैनेजमेंट के एमडी, राघवेंद्र नाथ के मुताबिक अपने पोर्टफोलियो में उम्र के आधार पर बैंक और फिक्सड डिपॉजिट में निवेश का फैसला करना चाहिए। जो लोग ज्यादा उम्र के हैं उनके लिए बैंक, फिक्स्ड डिपॉजिट, सेविंग बैंक खातों, पोस्ट ऑफिस इंस्ट्रमेंट, एनसीडी अच्छा विकल्प हो सकता है।



जो लोग जोखिम उठा सकते हैं उन्हें म्यूचुअल फंड में निवेश का रास्ता अपनाना चाहिए। हालांकि अपने पोर्टफोलियो में सारा पैसा एम एफ साधनों में ना लगाएं।



पंकज मठपाल के मुताबिक फिलहाल बैंक बचत खातों पर ब्याज दर बढ़ा रहे हैं इसके चलते निवेशक अपना पैसा सेविंग खातों में रख सकते हैं। फिलहाल अगर आप लंबी अवधि के लिए निवेश कर रहे हैं तो ऊंचा ब्याज देने वाले एफडी और डेट इंस्ट्रूमेंट में लगाएं। इसके पीछे वजह ये है कि अभी आपको ऊंची दर पर ब्याज मिल रहा है लेकिन जरूरी नहीं कि आगे भी ऐसा ही हो। आपका निवेश काल खत्म होने के बाद हो सकता है कि ब्याज दरें इतनी ऊंची ना हों।



राघवेंद्र सिंह के मुताबिक ऐसी मंदी के समय में निवेशकों के पास एनएचएआई के 15 साल के एनसीडी में निवेश करने का अच्छा विकल्प मौजूद है। इसमें 15 साल के लिए 8.5 फीसदी की दर पर ब्याज मिल रहा है जो काफी अच्छा कहा जा सकता है।



पंकज मठपाल के मुताबिक कुछ कंपनियों के एफडी में निवेश करते समय उनकी क्रेडिट रेटिंग देखनी चाहिए। कुछ कंपनियां 14-15 फीसदी की ब्याज दे रही हैं। इसके लालच में ना पड़कर सुरक्षित साधनों में ही निवेश करें। कई बार कंपनियां इतना ऊंची ब्याज देने का एलान इसलिए करती हैं क्योंकि उन्हें पैसे की बहुत जरुरत होती है। निवेशक सोचसमझकर अच्छी क्रेडिट रेटिंग वाली कंपनियों और एनसीडी में निवेश करें तो बेहतर रहेगा।



वीडियो देखें