Moneycontrol » समाचार » टैक्स

जानिए टैक्स गुरु से टैक्स बचत के टिप्स

प्रकाशित Sat, 04, 2012 पर 11:34  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया जी से जानिए टैक्स की बारीकियां और टैक्स से जुड़ी उलझनों पर सुझाव -


सवाल : सेक्शन 80सी के तहत किस-किस तरह की छूट मिल सकती है?  


सुभाष लखोटिया : सेक्शन 80सी के तहत कुल 1 लाख तक टैक्स छूट पा सकते हैं। 80सी के तहत लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम, प्रॉविडेट फंड, पीपीएफ, एनएससी8/9 इश्यू और यूलिप पर टैक्स छूट मिल सकती है। इसी तरफ पेंशन फंड में निवेश पर, घर बनाने- खरीदने के खर्चों पर तथा ईएलएसएस में निवेश पर, सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम पर टैक्स छूट मिल सकती है।


5 साल या उससे ज्यादा के टर्म डिपॉजिट/फिस्क्ड डिपॉजिट और 2 बच्चों के ट्यूशन फीस पर टैक्स छूट फायदा उठाया जा सकता है। स्वयं, पत्नी और बच्चों के इंश्योरेंस प्रीमियम पर सम एश्योर्ड के 20 फीसदी तक की छूट मिल सकती है। लेकिन पोते-पोती के नाम पर पॉलिसी लेकर प्रीमियम भरने पर कोई टैक्स छूट नहीं मिलेगी।


स्वयं, पत्नी और बच्चों के नाम पर पीपीएफ अकाउंट खोलने पर 1 लाख रुपये तक का टैक्स छूट मिल सकता है। एचयूएफ अपना पीपीएफ अकाउंट नहीं खोल सकते, लेकिन एचयूएफ को सदस्यों के नाम पर निवेश करने पर टैक्स छूट मिल सकता है।   


सवाल : एनएससी8, एनएससी9 इन दोनों स्कीम में क्या अंतर है?
  
सुभाष लखोटिया : एनएससी8 इश्यू में 5 साल में 8.4 फीसदी तक ब्याज मिल सकता है और एनएससी9  इश्यू में 10 साल में 8.7 फीसदी तक ब्याज संभव है।      


सवाल : टयूशन फीस के टैक्स छूट में क्या क्या शामिल हो सकता है?  


सुभाष लखोटिया : केवल दो बच्चों की टयूशन फीस पर टैक्स छूट का फायदा मिल सकता है। टयूशन फीस के अलावा डेवलपमेंट फीस, डोनेशन, किताबों का खर्च शामिल नहीं होगा। रिश्तेदारों के बच्चों की फीस पर छूट नहीं मिलेगी। केवल आप अपने बच्चों की फीस पर टैक्स छूट पा सकते हैं।    
  
सवाल : शिक्षा लोन पर टैक्स छूट की क्या सीमा है। 
 
सुभाष लखोटिया : 80ई के तहत उच्च शिक्षा लोन के ब्याज पर छूट की कोई ऊपरी सीमा नहीं है। लेकिन उच्च शिक्षा के लोन रिपेमेंट पर टैक्स छूट नहीं मिलेगा।


सवाल : होमलोन में किन खर्चों पर टैक्स छूट का फायदा मिल सकता है?      


सुभाष लखोटिया : होमलोन रिपेमेंट के साथ ही स्टैम्प डयूटी और मकान की रजिस्ट्री के खर्च पर छूट मिल सकती है। लेकिन अगर आप को-ऑपरेटिव सोसायटी के मेंमबर है, तो सोसायटी में प्रवेश शुल्क और शेयर्स आदि की कीमतों पर टैक्स छूट नहीं मिलेगा। साथ ही मकान में रहने के बाद मरम्मत, बदलाव आदि के खर्च पर भी टैक्स छूट नहीं मिल सकता है। 

जिसके नाम से घर है उसे ही टैक्स छूट का फायदा हो सकता है। मकान मालिक कों ही होमलोन ब्याज पर छूट मिल सकती है। घर तैयार होने पर ही होमलोन रिपेमेंट पर छूट मिल सकती है। निर्माणधीन मकान के लोन रिपेमेंट पर छूट नहीं मिलेगी।    


वीडियो देखें