Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु - बजट स्पेशल

प्रकाशित Sat, 25, 2012 पर 14:23  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश का नया बजट साल 2012-2013 पेश होने वाला है और इस नए बजट में खास कर टैक्स से जुड़े बदलावों को लेकर आम आदमी को काफी उम्मीदें है। जानते है सुभाष लखोटिया जी से इस बजट में सरकार महंगाई और सरकारी खजाने के बोझ के बीच आम आदमी के लिए क्या ठोस कदम उठा सकती है, जिससे सभी को फायदा होगा।


सवाल : आने वाले बजट में आम आदमी के लिए डायरेक्ट टैक्स कोड को लेकर क्या फायदे की बात निकल कर आ सकती है?  


सुभाष लखोटिया : डीटीसी पर स्थायी समिती की अंतिम बैठक 2 मार्च 2012 को होगी। इस बैठक में स्थायी समिति का नया 4 तरह के टैक्स स्लैब बनाने का प्रस्ताव रखा जा सकता है। जिसमें 3 लाख रुपये तक सालाना आय को टैक्स दायरे से बाहर रखा जा सकता है।

महिलाओं और पुरुषों के लिए छूट की सीमा एक समान होना मुमकिन है। महिलाओं के लिए अलग से ऊंची टैक्स छूट सीमा नहीं होगी। सीनियर सिटीजन के लिए 4 लाख रुपये और ज्यादा बुजुर्गों के लिए 6 लाख रुपये तक की छूट मिल सकती है।    


स्थायी समिति के सिफारिश के मुताबिक नए टैक्स स्लैब में 10 लाख रुपये तक आय पर 10 फीसदी, 10-20 लाख रुपये आय पर 20 फीसदी और 20 लाख रुपये से ज्यादा आय पर 30 फीसदी टैक्स लग सकता है।


सवाल : कंपनी से कार पर कई सुविधाएं मिलती हैं। क्या नए बजट में इन सुविधाओं पर टैक्स लगेगा? डीटीसी लागू होने पर यूलिप के मैच्यूरिटी रकम पर टैक्स लग सकता है। डीटीसी को ध्यान में रखते हुए यूलिप या इंश्योरेंस किसमें निवेश करें?
  
सुभाष लखोटिया :
डीटीसी, नए बजट में इस तरह के प्रावधान मुमकिन नहीं है। डीटीसी का ड्राफ्ट अभी तक आया नहीं है। जिसके कारण फिलहाल डीटीसी को लेकर स्थिति साफ नहीं है। डीटीसी को देखते हुए लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना बेहतर विकल्प होगा।     
  
सवाल : बजट में होमलोन और उसके ब्याज दरों के भुगतान को लेकर क्या कदम उठाएं जा सकते हैं?    
 
सुभाष लखोटिया : होमलोन के ब्याज पर छूट की सीमा बढ़ाकर 3 लाख रुपये हो सकती है। सेक्शन 80 सी के तहत होमलोन रीपेमेंट पर 1 लाख रुपये तक की छूट बढ़ सकती है। कंपनियों पर टैक्स में कोई बदलाव आने की उम्मीद नहीं है। सभी तरह के सरचार्ज हट सकते हैं। साथ ही नए बजट में एजुकेशन सेस हट सकता है।


सवाल : क्या डीटीसी लागू होने पर ईएलएसएस में नए निवेश पर टैक्स लग सकता है?  


सुभाष लखोटिया : प्री-डीटीसी में आपको निवेश पर फायदा मिलता रहेगा। लेकिन डीटीसी लागू होने पर ईएलएसएस में निवेश पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी। इसलिए मौजूदा ईएलएसएस पूरा होने पर रकम निकालना बेहतर होगा। 
  


वीडियो देखें