Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

बेहतर भविष्य के लिए करें फाइनेंशियल प्लानिंग

प्रकाशित Sat, 03, 2012 पर 12:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फ्रीडम फाइनेंशियल प्लानर के सीईओ सुमित वैद बता रहे हैं फाइनेंशियल प्लानिंग का महत्व, साथ ही इससे जुड़े सवाल-जवाब।


सवाल: मेरी सालाना आय 10 लाख रुपये है, परिवार में पत्नी और एक बच्चा है। वहीं एचडीएफसी टर्म प्लान में 1 करोड़ रुपये का कवर है, भारती अक्सा यूलिप प्लान में सालाना 60,000 प्रीमियम भर रहा हूं। मैं 15 साल में बेटी की पढ़ाई के लिए 25 लाख रुपये, जबकि 25 साल में बेटी की शादी के लिए 75 लाख रुपये जुटाना चाहता हूं। किस तरह करूं फाइनेंशियल प्लानिंग?


सुमित वैद: टर्म प्लान का कवर बढ़ाएं, साथ ही खुद के लिए और पत्नी के लिए 5-5 लाख रुपये का हेल्थ कवर भी लें, इसके अलावा बच्चे के लिए भी करीब 2 लाख रुपये का हेल्थ कवर लें। साथ हीं गंभीर बीमारियों के लिए भी करीब 10 लाख रुपये का कवर ले सकते हैं। वहीं 15 साल में बेटी की पढ़ाई के लिए 25 लाख रुपये जुटाने के लिए 6,500 रुपये प्रति महीने की एसआईपी करें, जबकि 25 साल में 75 लाख रुपये बेटी की शादी के लिए जमा करने के लिए 5,500 रुपये हर महीने एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करें।


सवाल: मेरी उम्र 29 साल है और आय 21,000 रुपये सालाना है। 12,000 रुपये महीने का खर्च है और करीब 8,000 रुपये मासिक बचत होती है। इसके अलावा 2 लाख रुपये की एफडी और 5 लाख रुपये बचत खाते में हैं। 8,000 रुपये की बचत को कहां निवेश करूं?


सुमित वैद: सबसे पहले 3 महीने के खर्च के बराबर का इमरजेंसी फंड बनाए, वहीं बचत खाते में रखे 5 लाख रुपये को एफडी अथवा आरडी में डालें। वहीं 8,000 रुपये की मासिक बचत को एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड में लगाएं। आईसीआईसीआई फोक्स्ड ब्लूचिप, डीएसपी ब्लैकरॉक और आईडीएफसी प्रीमियर इक्विटी में निवेश करना बेहतर रहेगा।


सवाल: मेरी सालाना आय 45,000 रुपये है, परिवार में माता-पिता, पत्नी और बच्चा है। वहीं एसबीआई मैग्नम इक्विटी में 3,000 रुपये मासिक, एसबीआई मैग्नम ग्लोबल में 2,000 रुपये मासिक, एसबीआई मैग्नम इक्विटी में 25,000 रुपये एकमुश्त, एसबीआई मैग्नम टैक्स गेन में 15,000 रुपये एकमुश्त जमा किए हैं। मेरा पोर्टफोलियो कैसा है?


सुमित वैद: परिवार की जिम्मेदारियों को देखते हुए सबसे पहले खुद के लिए करीब 1.5 करोड़ रुपये का टर्म प्लान लें, साथ ही निवेश और इंश्योरेंस के लिए अलग नजरिया रखें। वहीं एसबीआई मैग्नम ग्लोबल और एसबीआई मैग्नम टैक्स गेन से निकल जाएं और इसके पैसे एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड में लगाएं।


वीडियो देखें