Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस प्लान सरेंडर करना कितना सही

प्रकाशित Sat, 24, 2012 पर 13:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

माय इंश्योरेंस क्लब डॉटकॉम के वाइस प्रेसिडेंट मनोज असवानी इंश्योरेंस पॉलिसी सरेंडर करने पर होने वाले परिणामों पर सलाह दे रहे हैं।


सवाल: मैंने साल 2010 में एसबीआई लाइफ यूनिट प्लस पेंशन प्लान लिया जिसका सालाना प्रीमियम 30,000 रुपये है। वहीं अब तक 3 प्रीमियम भर चुका हूं, लेकिन रिटर्न कम मिलने की वजह अब पॉलिसी से निकलना चाहता हूं, क्या करूं?


जवाब: एसबीआई लाइफ यूनिट प्लस पेंशन प्लान है, वहीं यह प्लान काफी अच्छा है और इसमें चार्जेस भी काफी कम है। इसके अलावा किसी भी पेंशन प्लान में लंबी अवधि के नजरिए की आवश्यकता होती है। ऐसे में केलव रिटर्न को लिहाज से प्लान से निकलने का सही नहीं होगा।


सवाल: मैंने एलआईसी की जीवन आनंद पॉलिसी ली है, जिसका सालाना प्रीमियम 55,800 रुपये है, पॉलिसी का सम एश्योर्ड 11 लाख रुपये और अवधि 20 साल है। वहीं अब तक 3 प्रीमियम भर चुका हूं। लेकिन रिटर्न काफी कम दिखाई दे रहा है, क्या मौजूदा पॉलिसी से निकलकर किसी टर्म प्लान में पैसा लगाना सही रहेगा?


जवाब: एलआईसी की जीवन आनंद पॉलिसी एक अच्छी पॉलिसी है, लेकिन सम एश्योर्ड को देखते हुए 55,800 रुपये का सालाना प्रीमियम काफी ज्यादा है। लेकिन यदि अभी पॉलिसी सरेंडर करते हैं तो 70 फीसदी सरेंडर चार्ज देना होगा। ऐसे में बेहतर होगा कि सरेंडर चार्ज कम होने का इंतजार करें उसके बाद पॉलिसी से निकलने का फैसला ले सकते हैं।


सवाल: मैंने साल 2007 में बजाज अलियांज पॉलिसी पत्नी के नाम से ली थी। वहीं अब पॉलिसी को सरेंडर करना चाहता हूं, लेकिन इंश्योरेंस कंपनी पहले प्रीमियम का 54 फीसदी सरेंडर चार्ज मांग रही है, क्या यह उचित है?


जवाब: जब आप कोई पॉलिसी लेते हैं, तो पॉलिसी दस्तावेज में सारे नियम लिखे होते हैं। पॉलिसी डॉक्युमेंट में सरेंडर चार्ज के बारे दी गई जानकारी पढ़ें। यदि कुछ गलत लगता है तो इश्योरेंस कंपनी से बात की जा सकती है।


वीडियो देखें