Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बीमा

सही इंश्योरेंस प्लान है आपका सच्चा साथी

प्रकाशित Sat, 31, 2012 पर 09:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंश्योरेंस व्यक्ति की जिंदगी का अहम हिस्सा होता है। जीवन के हर कदम पर इंश्योरेंस प्लान की जरूरत हमें पड़ती है। बशर्ते जरूरी यह भी यह है कि हम ऐसा इंश्योरेंस प्लान लें जिससे हमारी जरूरत पूरी हो सके। कहने का तात्पर्य यह है कि मान लीजिए हमें 50,000 के इंश्योरेंस कवर की आवश्यकता है और हमने केवल 20 लाख का ही कवर लिया है तो यह सही नहीं है।


इंश्योरेंस और निवेश दोनों के उद्देशय हो समझना चाहिए। व्यक्ति को अपने इंश्योरेंस को निवेश के नजरिए से नहीं देखना चाहिए। क्योंकि इंश्योरेंस का मूल उद्देशय होता है आपकी सुरक्षा, इसके अलावा जरूरी यह भी है कि किसी भी इंश्योरेंस पॉलिसी से के साथ एक लंबी अवधि का रिश्ता बनाने की कोशिश करनी चाहिए, बाजार में आने वाली नए इंश्योरेंस प्लानों की तरफ आकर्षित होकर पुरानी पॉलिसी को बने तक सरेंडर नहीं करना चाहिए। हालांकि कुछ अपवाद स्वरूप मामलों में ऐसा किया जा सकता है।


माय इंश्योरेंसक्लब डॉटकॉम के उप-संस्थापक मनोज असवानी कहते हैं कि इंश्योरेंस कंपनी के साथ पॉलिसीधारक का रिश्ता जितना पुराना होगा, पॉलिसीधारक के लिए उतना ही फायदेमंद होगा। मान लीजिए आपके पास कोई इंश्योरेंस पॉलिसी 15 साल से चली आ रही है, लेकिन अब आप कुछ तकनीकी कारणों से पॉलिसी को सरेंडर करना चाह रहें हैं, तो यह उचित फैसला नहीं होगा। क्योंकि नई पॉलिसी लेने पर इंश्योरेंस कंपनी के साथ नया रिश्ता कायम करने में 4-5 साल का समय जाता है। वहीं पुरानी पॉलिसी में पॉलिसीधारक को क्लेम आसानी से मिल जाता है, जबकि नई पॉलिसी में क्लेम सेटलमेंट करने में कई जटिल प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है।


इंश्योरेंस व्यक्ति के जीवन का अहम हिस्सा होता है। इसलिए इसकी पूरी जानकारी रखना बेहद जरूरी है। जिसके लिए समय-समय पर अपनी पॉलिसी की समीक्षा करते रहना चाहिए। यदि किसी व्यक्ति ने 15 साल पहले कोई इंश्योरेंस पॉलिसी ली थी, तब उसे 10 लाख रुपये इंश्योरेंस कवर की जरूरत थी और उसके लिए वह एक निश्चित प्रीमियम का भुगतान भी कर रहा है, लेकिन 15 साल का समय बीतने में व्यक्ति की इंश्योरेंस कवर की जरूरतों में बदलाव आ जाता है, हो सकता है तब 10 लाख रुपये इंश्योरेंस कवर की जरूरत थी, लेकिन आज यह जरूरत 50 लाख रुपये पर पहुंच गई है।


ऐसे में जब इंश्योरेंस कवर की जरूरत पड़ती है आपका मौजूदा कवर आपके लिए कम पड़ जाता है। इसलिए हमेशा इसकी समीक्षा करते रहें कि समय से साथ आपको और आपके परिवार को कितने इंश्योरेंस कवर की आवश्यकता है। ताकि उस हिसाब से आप अपने इंश्योरेंस कवर की नीति बना सके और भविष्य में पड़ने वाली इंश्योरेंस की जरूरतों की पूर्ति कर हो सके।


वीडियो देखें