Moneycontrol » समाचार » बीमा

कितना जरूरी है यात्रा से पहले ट्रैवेल इंश्योरेंस

प्रकाशित Sat, 05, 2012 पर 12:12  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंश्योरेंस की जरूरत व्यक्ति को जीवन में हर कदम पर पड़ती है। लोग हेल्थ इंश्योरेंस, लाइफ इंश्योरेंस, मोटर इंश्योरेंस जैसे इंश्योरेंस को तो ले लेते हैं। लेकिन ऐसा कम ही देखा गया है कि जब कोई व्यक्ति ट्रैवेल इंश्योरेंस लेता है। हम यात्रा की तैयारी करते समय हर छोटी से छोटी चीज का ख्याल रखते हैं, कपड़े से लेकर दवाईयां और जरूरत ही हर चीज साथ रखते हैं। लेकिन ऐसे कम ही लोग होते हैं जो यात्रा में अपने साथ ट्रैवेल इंश्योरेंस भी रखते हैं।


ट्रैवेल इंश्योरेंस को भी बाकी इंश्योरेंस की तरह ही महत्व देना चाहिए। देश और विदेश की यात्रा के पहले इंश्योरेंस जरूर लें। ट्रैवेल इंश्योरेंस करीब 80 साल तक की उम्र तक मिलता है, यह ज्यादा महंगा भी नहीं होता है। सिर्फ 2,000-2,500 रुपये के प्रीमियम पर ट्रैवेल इंश्योरेंस आपकी यात्रा से जुड़े हर पहलू की जिम्मेदारी लेता है। जिसमें यात्री की सुरक्षा, उसके सामान की सुरक्षा, पैसे खो जाना, पासपोर्ट खो जाना, फ्लाइट छूट जाना या रद्द हो जाना और दुर्घटना जैसे मसले ट्रैवेल इंश्योरेंस के तहत कवर हो जाती हैं।


मायइंश्योरेंसक्लब डॉट कॉम के मनोज असवानी के अनुसार दूसरे जरूरी इंश्योरेंस की तरह ट्रैवल इंश्योरेंस का भी काफी महत्व है। यात्रा पर जाने की प्लानिंग करने में ट्रैवेल इंश्योरेंस लेने को भी महत्व देना चाहिए क्योंकि परेशानियां बताकर नहीं आती हैं। ऐसे समय ट्रैवेल इंश्योंरेंस काफी हद तक मददगार साबित होता है। मान लीजिए कोई व्यक्ति अपनी पत्नी, बच्चों और माता-पिता के साथ विदेश यात्रा पर जाना चाहता है। ऐसे में उसे अपने माता-पिता की उम्र हो देखते हुए अलग इंश्योरेंस कवर लेना चाहिए और खुद, पत्नी और बच्चों के लिए एक अलग इंश्योरेंस लेना चाहिए।


मनोज असवानी के अनुसार ट्रैवेल इंश्योरेंस प्रीमियम की रकम भी अलग-अलग होती है। वहीं आप किसी देश में यात्रा के लिए जा रहे हैं, उस हिसाब से ट्रैवेल इंश्योरेंस का प्रीमियम तय होता है। जिन लोगों को कई बार यात्राएं करनी पड़ती हैं, साल में कई बार विदेश जाना पड़ता है ऐसे में वह सालाना पॉलिसी ले सकता है। जिससे हर बार यात्रा से पहले इंश्योरेंस लेने की झंझट से छुटकारा मिल जाता है।


इंश्योरेंस आपके मुश्किल वक्त का बसे बड़ा साथी होता है, इसे हमेशा अपने साथ रखना चाहिए। क्योंकि सुरक्षा ही सबसे बड़ी सतर्कता है। ताकि आप और आपका परिवार हर उस अनहोनी का सामना कर सके जिसके लिए व्यक्ति अक्सर तैयार नहीं होता है। इसलिए यात्रा कीजिए, खुशियां मनाएं और जीवन के प्रत्येक लम्हों को यादगार बनाएं। लेकिन जीवन के इन यादगार लम्हों में कोई खलल पड़े तो उससे निपटने के लिए इंश्योरेंस रूपी रामबाण हमेशा साथ रखें।


वीडियो देखें