Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

जानिए एस पी तुल्स्यान के पसंदीदा शेयर

प्रकाशित Mon, 21, 2012 पर 11:19  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एसपीतुल्स्यान डॉटकॉम के एस पी तुल्स्यान का कहना है कि चौथी तिमाही के नतीजे बाजार की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरने की वजह से टाटा स्टील के शेयर पर दबाव की स्थिति बनी हुई है। लेकिन टाटा स्टील भारतीय कारोबार बेहतर स्थिति में चल रहा है, हालांकि यूरोप में कंपनी के कारोबार को झटका लगा है। जिसका असर तिमाही नतीजे पर देखने को मिला है। वहीं शेयर यदि गिरावट पर 375 रुपये पर मिलता है तो यह खरीदारी के लिए बेहतर होगा।


एस पी तुल्स्यान के मुताबिक रिलायंस कैपिटल ने चौथी तिमाही में काफी बेहतर नतीजे पेश किए हैं। वित्त वर्ष 2012 की 3 तिमाहियों में खराब नतीजों के बाद चौथी तिमाही कंपनी के लिए अच्छी रही है। रिलायंस कैपिटल ने चौथी तिमाही में 360 करोड़ रुपये का मुनाफा दिखाया है, लेकिन कंपनी ने यह मुनाफा अपने मुख्य कारोबार से अर्जित नहीं किया है। वहीं आनेवाली तिमाहियों में कंपनी यही मुनाफा दर्ज कर पाएगी इसको लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। ऐसे में 325-330 रुपये के स्तर पर ट्रेडर्स और निवेशकों को मुनाफा वसूली की रणनीति बनानी चाहिए।


एस पी तुल्स्यान का कहना है कि चेत्तिनाद सीमेंट के प्रबंधन ने शेयर डीलिस्टिंग का फ्लोर प्राइस 575 रुपये रखा है। कंपनी का मार्केट कैपिटल 2,300 करोड़ रुपये है, कंपनी पर कुल कर्ज 1,200-1,300 करोड़ रुपये के बीच है। साथ की चेत्तिनाद सीमेंट ने कर्नाटक में 2.5 मिलियन टन का क्षमता वाला प्लांट लगाया है। वहीं डीलिस्टिंग के पहले शेयर 1,100-1,200 रुपये तक के स्तर दिखा सकता है।


वहीं डीलिस्टिंग की कतार में खड़ी कंपनियों में बीओसी इंडिया, फ्रेसिनियस काबी और केन्नामेटल इंडिया में खरीदारी की जा सकती है, इन कंपनियों की जल्द की डीलिस्टिंग की प्रक्रिया शुरू होगी।


एस पी तुल्स्यान के अनुसार बॉयोकॉन में मौजूदा निवेशकों को निवेश बरकरार रखना चाहिए। वहीं शेयर में 200 रुपये के नीचे नई खरीदारी भी की जा सकती है। फाइजर से ओरल इंसूलिन करार टूटने के बाद पिछले काफी समय से बायोकॉन के शेयर में दबाव की स्थिति देखी जा रही है। हालांकि कंपनी ओरल इंसूलिन करार अब नए सिरे से कर रही है, जिस प्रक्रिया को पूरा होने में फिलहाल 3-4 महीनों का समय लग सकता है। वहीं इंसूलिन की मांग और कंपनी के कारोबार को देखते हुए शेयर में आगे अच्छी बढ़त देखने को मिल सकती है। ऐसे में फिलहाल शेयर में बने रहने का फैसला बेहतर होगा।


एसपीतुल्स्यान डॉटकॉम के एस पी तुल्स्यान आदित्य बिड़ला समूह ने लिवंग मीडिया में 27.5 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी है। वहीं लिविंह मीडिया का टीवी टुडे में 58 फीसदी हिस्सेदारी है। ऐसे में बिड़ला समूह को टीवी टुडे में करीब 15.5 फीसदी हिस्सेदारी ही मिली है, क्योंकि रिलायंस कैपिटल के पास टीवी टूडे की 13.5 फीसदी हिस्सेदारी काफी समय से है। वहीं ऐसी परिस्थिति को देखते हुए हो सकता है आनेवाले समय में टीवी टुडे में ओपन ऑफर जैसे विकल्प देखने को मिल सकते हैं। फिलहाल शेयर में 75 रुपये के लक्ष्य के साथ खरीदारी की जा सकती है।


एडूकॉम्प सॉल्युशंस के शेयर में काफी समय से चिंता बरकरार है। कंपनी के स्मार्ट क्लासेस कारोबार को लेकर चिंता बनी हुई है। वहीं कंपनी के वित्त वर्ष 2013 के पहली तिमाही के नतीजे देखने के बाद की शेयर में दांव लगाने की रणनीति बनाना उचित होगा।


एस पी तुल्स्यान का कहना है कि सुजलॉन एनर्जी में अगले 2-3 महीनों के नजरिए से खरीदारी की जा सकती है। इस अवधि के दौरान शेयर 20 फीसदी का मुनाफा देने की क्षमता रखता है। वहीं ट्रेंडिंग के नजरिए से भी शेयर पर दांव लगाया जा सकता है। कंपनी ने शेयरधारकों को भरोसा दिलाया है कि 30 करोड़ डॉलर के एफसीसीबी बकाए के भुगतान के लिए उनके पास करीब 1.5 महीने का समय है। वहीं कंपनी एफसीसीबी का भुगतान आसानी के कर देगी। जिसके चलते शेयर में सकारात्मक रूझान बना हुआ है।


एस पी तुल्स्यान की सलाह है कि मॉजर बेयर में मौजूदा निवेशकों को बिकवाली की रणनीति बनानी चाहिए। तुल्स्यान के मुताबिक मॉजर बेयर ने शेयरधारकों के साथ-साथ बैंकों का पैसा भी बर्बाद किया है। कंपनी का अपने मुख्य कारोबार से ध्यान पूरी तरह से हटा हुआ है, वहीं मुनाफे के मोर्च पर भी मॉजर बेयर को तगड़ा झटका लग रहा है। ऐसे में मौजूदा निवेशकों को शेयर से बिकवाली करना ही एक मात्र बेहतर विकल्प है।


वीडियो देखें