Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस की परेशानियों से जुड़े सवाल-जवाब

प्रकाशित Sat, 16, 2012 पर 10:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पॉलिसीबाजार डॉट कॉम के उप-संस्थापक और सीईओ यशीष दहिया दे रहे हैं इंश्योरेंस से जुड़े सवालों के जबाव।


सवाल: मेरे पास एलआईसी जीवन तरंग की 2 पॉलिसी है। 1 पॉलिसी बेटी और दूसरी पॉलिसी दामाद के लिए ली है। ये पॉलिसी कैसी है, क्या इस जारी रखना बेहतर रहेगा?


यशीष दहिया: एलआईसी जीवन तरंग यह एक होल लाइफ प्लान है। जिसमें कवर व्यक्ति के जीवित रहने तक मिलता है। साथ ही इस प्लान में बोनस की सुविधा भी है। ऐसे में पॉलिसी में बने रहना का फैसला लेना चाहिए। वहीं पॉलिसी की सरेंडर वैल्यु भी काफी कम है।


सवाल: क्या इंश्योरेंस पॉलिसी की जगह पीपीएफ में पैसा लगाना सही रहेगा। वहीं क्या पीपीएफ में अलग-अलग खाता खोला जा सकता है?


यशीष दहिया: पीपीएफ में अलग-अलग खाता खोला जा सकता है। लेकिन पीपीएफ में लाइफ कवर नहीं मिलता है। वहीं इंश्योरेंस से मिलने वाला रिटर्न टैक्स फ्री होता है, जबकि पीपीएफ से मिलने वाले मुनाफे पर टैक्स का भुगतान करना होता है।


सवाल: मेरे पिताजी की उम्र 60 साल और माताजी की उम्र 55 साल है। कुछ साल पर एक दुर्घटना की वजह से पिताजी के हाथ में रॉड डालनी पड़ी थी, बाकी उनकी तबीयत पूरी तरह से ठीक है। वहीं मां को पीठ दर्द की शिकायत है। ऐसे में मुझे हर महीने उनके इलाज के लिए कुछ पैसे अलग रखना चाहिए या फिर इनके लिए कोई हेल्थ प्लान लेना ठीक रहेगा?


यशीष दहिया: मौजूदा परिस्थिति को देखते हुए आपको जरूरत के हिसाब से फैसला लेना होगा। यदि ऐसा लगता है कि माता-पिता के इलाज के लिए हाल ही में कोई खर्च आ सकता है तो हर महीने पैसे जमा करना चाहिए। वहीं यदि ऐसा नहीं है तो कोई हेल्थ कवर प्लान लिया जा सकता है। अपोलो म्युनिख ईजी और इफ्तो टोक्यो जैसे प्लान का चुनाव करना बेहतर रहेगा।


वीडियो देखें