फाइनेंशियल प्लानिंग दिलाए परेशानियों से छुटकारा -
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

फाइनेंशियल प्लानिंग दिलाए परेशानियों से छुटकारा

प्रकाशित Mon, 09, 2012 पर 12:50  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ऑप्टिमा मनी मैनजर्स के पंकज मठपाल बता रहें हैं कि कैसे करें सही फाइनेंशियल ताकि भविष्य की वित्तीय जरूरतों का आसानी से पूरा किया जा सके।


सवाल: मेरी उम्र 30 साल और पत्नी की उम्र भी 30 साल है। मेरी मासिक आय 57,000 रुपये और पत्नी की मासिक आय 63,000 रुपये है। 20,000 रुपये प्रति महीने माता-पिता को खर्च के लिए देता हूं, और खुद का घर खर्च हर महीने 25,000-30,000 रुपये है। इसके अलावा 15,000 रुपये घर का किराया देता हूं। हर महीने 20,000 रुपये निवेश करना चाहता हूं, 2 साल में गाड़ी के लिए 7-8 लाख रुपये और भाई की शादी के लिए 4 लाख रुपये जुटाने चाहता हूं। कैसे करूं प्लानिंग?


जवाब: सबसे पहले आय और खर्च में संतुलन बनाएं। साथ ही करीब 4-6 महीनों के खर्च के बराबर की रकम इमरजेंसी फंड के तौर पर रखें। खुद और पत्नी के लिए पर्याप्त कवर वाला टर्म प्लान लें, इसके अलावा लिक्विड फंड में निवेश करें और हर साल निवेश की रकम को बढ़ाते जाएं।


सवाल: मेरी उम्र 29 साल और सालाना आय 4.9 लाख रुपये है। अगले 3 साल में नोएडा में 35 लाख रुपये का घर खरीदना चाहता हूं। जिसके शुरुआती भुगतान के लिए 5-6 लाख रुपये की आवश्यकता होगी। वहीं 6,000 रुपये हर महीने एफडी में जमा कर रहा हूं, साथ ही एलआईसी वेल्थ प्लस पॉलिसी है। जिसका तिमाही प्रीमियम 6,000 रुपये है, लेकिन इसे बंद करने की सोच रहा हूं। कुछ दिनों में एफडी पूरी हो जाएगी। तब 10,000 रुपये निवेश कर सकता हूं। क्या इतने निवेश से 5-6 लाख रुपये जुटाने का लक्ष्य 3 साल में हासिल हो पाएगा?


जवाब: लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपके पास 3-4 साल का ही समय है। वहीं 10,000 रुपये प्रति  महीने के निवेश से 5-6 लाख रुपये जुटाना मुमकिन नहीं होगा। वहीं एलआईसी वेल्थ प्लस को सरेंडर करने का विचार फिलहाल गलत है। पॉलिसी में बने रहें, यह एक हाइएस्ट गारंटीड एनएवी प्लान है। जिसका आगे चलकर आपको फायदा होगा।


सवाल: मेरी मासिक आय 65,000 रुपये है। 6 लाख रुपये का लोन लिया है, 10,000 रुपये ईएमआई है। साथ ही 3 इंश्योरेंस पॉलिसी है जिसका सम एश्योर्ड 5 लाख रुपये है। वहीं 11,000 रुपये हर महीने म्युचुअल फंड में एसआईपी कर रहा हूं। मुझे 2017  में 15 लाख रुपये, 2019 में 20 लाख रुपये, 2022 में 30 लाख रुपये और 2024 में 35 लाख रुपये बच्चों की पढ़ाई, शादी इत्यादि जरूरतों के लिए चाहिए। क्या मौजूदा निवेश से लक्ष्य हासिल हो सकता है?


जवाब: मौजूदा निवेश से लक्ष्य को हासिल कर पाना बेहद मुश्किल है। ऐसे में लक्ष्यों की एक बार समीक्षा करें और कम से कम रकम में लक्ष्य को पूरा करने की कोशिश करें। वहीं निवेश की रकम या फिर लक्ष्य की अवधि बढ़ाने जैसे विकल्प पर भी विचार कर सकते हैं।


वीडियो देखें