Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स की उलझनें, टैक्स गुरू के जवाब

प्रकाशित Fri, 17, 2012 पर 14:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आयकर रिटर्न भरने की समय सीमा नजदीक आ रही है। ऐसे में टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया का मानना है कि करदाताओं को अपने रिटर्न भरने में देरी नहीं करनी चाहिए। टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया ने टैक्स से जुड़ी उलझनों के जवाब दिए जो आपके भी काफी काम आ सकते हैं।


सवालः मेरे पास कई क्रेडिट कार्ड हैं, मैं ज्यादातर संबंधियों, दोस्तों के लिए क्रेडिट कार्ड से खर्च करता हूं। इसका मासिक स्टेटमेंट मेरी तनख्वाह से करीब दोगुना आता है। क्या आगे चलकर आयकर विभाग से इस संबंध में पूछताछ हो सकती है कि खर्चा आय से ज्यादा कैसे हो रहा है?


सुभाष लखोटियाः अगर आप के पास कई क्रेडिट कार्ड हैं और खर्चा आय से ज्यादा हो रहा है तो आयकर विभाग से नोटिस आ सकता है। आपसे आपके खर्चों का ब्यौरा मांगा जा सकता है। खर्च की जानकारी नहीं देने पर अघोषित आय या निवेश माना जाएगा। इस अघोषित निवेश या खर्च पर आयकर विभाग द्वारा 30 फीसदी की दर से टैक्स लगाया जा सकता है। क्रेडिट कार्ड पेमेंट का स्त्रोत नहीं बताने पर भी इसे अघोषित खर्च बताया जाएगा।


अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल अपने लिए ही करना चाहिए। दूसरों के लिए क्रेडिट कार्ड से खर्च ना करें। ऐसा खर्च करने पर दोस्तों से पेमेंट का पत्र जरूर ले लें। दोस्तों से कैश के बजाए पेमेंट के लिए अकाउंट पेयी चेक ले लें।


सवालः क्रेडिट कार्ड से यूरोप में निवेश कर 2 दिन में 40 डॉलर कमाए हैं। टैक्स की देनदारी कैसे बनेगी?


सुभाष लखोटियाः विदेश में कमोडिटी ट्रेडिंग में निवेश में कोई परेशानी नहीं है। कोई भी भारतीय सालाना 2 लाख डॉलर तक का विदेशी निवेश कर सकता है। हालांकि इस निवेश से प्राप्त आय को आयकर रिटर्न में दिखाना आवश्यक है।


सवालः बेटी की आय विदेश में है और इसके साथ ही भारत में भी प्रॉपर्टी से किराए के रूप में आय आती है। क्या उसे विदेश में और भारत में दोनों जगह रिटर्न भरना आवश्यक है?


सुभाष लखोटियाः भारत में होने वाली आय पर भारत में टैक्स रिटर्न भरना आवश्यक है। इसके अलावा विदेश में होने वाली आय पर एनआरआई को भारत में रिटर्न नहीं भरना होगा। 


सवालः ऑनलाइन रिटर्न भरने के बाद एक्नॉलिजमेंट स्लिप नहीं मिली है। अब क्या करना चाहिए?


सुभाष लखोटियाः एक्नॉलिजमेंट स्लिप यानी आईटीआर वी 1 महीने के अंदर आनी चाहिए। अगर ये एक महीने के अंदर नहीं आती है तो दोबारा रिवाइज रिटर्न भरना चाहिए।


सवालः पिछले 3 साल से रिटर्न नहीं भरा है, क्या तीनों साल का रिटर्न एक साथ भरा जा सकता है?


सुभाष लखोटियाः एक साथ 3 साल का रिटर्न भरना संभव नहीं है। आप 31 मार्च 2012 और 31 मार्च 2011 को खत्म हुए वित्तीय वर्ष का आयकर रिटर्न भर सकते हैं।


सवालः होमलोन के प्री-कंस्ट्रक्शन का ब्याज 1.20 लाख रुपये है और वित्त वर्ष 2011-12 के लिए ब्याज 1.70 लाख रुपये है, कितनी छूट मिलेगी?


सुभाष लखोटियाः पिछले सालों के ब्याज की राशि की छूट 5 सालों में मिलेगी, हर साल अधिकतम 1.50 लाख रुपये तक की छूट मिल सकती है।


सवालः पत्नी को शादी में 480 ग्राम सोना मिला था, क्या इसे बेचने पर टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटियाः सोना बेचने पर कैपिटल गेन टैक्स लगेगा। हालांकि इसकी बिक्री रकम पर कॉस्ट इंफ्लेशन इंडेक्स का फायदा मिलेगा। सोने का सबूत देना जरूरी है और आपकी पत्नी 31 मार्च 2012 और 31 मार्च 2011 के लिए रिटर्न भर सकती है।


वीडियो देखें