Moneycontrol » समाचार » बीमा

जानें क्यों जरूरी है होम इंश्योरेंस पॉलिसी

प्रकाशित Wed, 10, 2012 पर 12:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस के रीजनल मैनेजर आदित्य शर्मा का कहना है कि हाउस इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत घर के सामान जैसे टीवी, फ्रिज, एसी, ज्वैलरी आदि की सुरक्षा की जाती है। इसके साथ साथ घर की बिल्डिंग का भी इंश्योरेंस किया जाता है। ये आग, बाढ़, भूकंप जैसी आपदाओं के साथ चोरी डकैती से मकान को होने वाले नुक्सान पर सुरक्षा देता है।


हाउस इंश्योरेस के तहत घर में रखे हर सामान का इंश्योरेंस होता है और गहनों पर भी इंश्योरेंस मिलता है। इसके तहत महंगी पेंटिग्स को कवर में शामिल नहीं किया जाता है।


हाउस इंश्योरेंस पॉलिसी में ज्वैलरी पर भी कवर मिलता है। इसके तहत अगर आप घर के बाहर भी ज्वैलरी ले जाते हैं और वहीं कोई चोरी वगैरह हो जाती है तो इस पर भी कवर मिलता है। हाउस इंश्योरेस में घर की बिल्डिंग, घर का सामान और वैकल्पिक घर के किराए का खर्च शामिल होता है। इसके तहत कुछ अतिरिक्त फायदे भी मिलते हैं जैसे मेडिकल खर्च और पर्सनल एक्सीडेंट कवर।


माई इंश्योंरेंस क्लब डॉटकॉम के को फाउंडर मनोज आसवानी का कहना है कि हाउस इंश्योरेस पॉलिसी फिलहाल भारत में ज्यादा चलने वाला प्रोडक्ट नहीं है। लेकिन घर को सुरक्षित रखने के लिए होम इंश्योरेंस जरूरी होता है। इसके तहत मिलने वाले कवर की रकम मकान के कंस्ट्रक्शन कॉस्ट और घर में रखे सामान पर निर्भर करती है। 


हालांकि क्लेम होने की स्थिति में कुछ परिस्थितियां देखी जाती हैं जैसे अगर आपकी लापरवाही के चलते घर का नुकसान हुआ है या जानबूझकर घर को नुक्सान पहुंचाया गया है तो ऐसे में क्लेम रिजेक्ट हो सकते हैं।


सवालः मैं किराए के घर में रहता हूं और हर 1-2 साल में घर बदलता रहता हूं। क्या मुझे होम इंश्योरेंस मिल सकता है? इसके साथ ही क्या किराए पर घर लेने और देने वालों को होम इंश्योरेंस कराना जरूरी होता है।


मनोज आसवानीः लगभग हर इंश्योरेंस कंपनी घर में रखे सामान पर हाउस इंश्योरेंस पॉलिसी देती है। आप होम इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद सकते हैं लेकिन 1 साल में इसे रिन्यू कराना होगा। निजी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों में टाटा एआईजी, बजाज आलियांज, रॉयल सुंदरम और सरकारी कंपनियों में ओरियेंटल इंश्योरेंस और यूनाइटेड इंश्योरेंस कंपनी के जरिए हाउस इंश्योरेंस पॉलिसी ले सकते हैं। किराए पर घर लेने और देने वाले दोनों को होम इंश्योरेंस कराना चाहिए।


सवालः क्या घर में मौजूद महंगी पेटिंग्स के लिए अलग से इंश्योरेंस कराने की जरूरत होती है?


आदित्य शर्माः होम इंश्योरेंस के तहत महंगी पेंटिंग्स को कवर नहीं किया जाता है इसके लिए आपको अलग से प़लिसी लेने की जरूरत होती है।


सवालः आतंकवादी घटनाओं के लिए घर का बीमा स्टैंडर्ड पॉलिसी में होता है या अलग से इसके लिए कवर लेना होता है?


मनोज आसवानीः इसके लिए स्टैंडर्ड होम इंश्योरेंस पॉलिसी में ही कवर मिलता है, अलग से कवर लेने की जरूरत नहीं होती है।


सवालः क्या पॉलिसी के तहत जमीन और घर दोनों का बीमा होता है?


आदित्य शर्माः होम इंश्योरेंस पॉलिसी में सिर्फ घर के कंस्ट्रक्शन की कीमत का बीमा होता है, इसमें जमीन की कीमत का बीमा नहीं होता है।


सवालः घर रेनोवेट करवाने पर क्या नई होम इंश्योरेंस पॉलिसी लेनी होगी?


मनोज आसवानीः नहीं, घर रेनोवेट करवाने के बाद अगर घर की कीमत बढ़ती है तो पुरानी पॉलिसी में ही बदलाव कराए जा सकते हैं। पुरानी पॉलिसी में ही कवर बढ़वाया जा सकता है।


सवालः घर में दुर्घटना या चोरी होने के कितने दिने के भीतर इंश्योरेंस कंपनी को जानकारी देनी चाहिए?


मनोज आसवानीः  घर में दुर्घटना या चोरी होने के 1 दिन के अंदर इंश्योरेंस कंपनी को जानकारी देनी चाहिए।


सवालः क्या बीमा कंपनियां 20 या 25 साल पुराने घर का कवर आसानी से देती हैं?


आदित्य शर्माः हां, इतने पुराने घर का भी बीमा कराया जा सकता है। घर की वैल्यू निकलवाकर बीमा हो सकता है।


वीडियो देखें