Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू से जानें कैसे बचेगा टैक्स

प्रकाशित Sat, 03, 2012 पर 13:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया ने टैक्स से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए जो आपके भी बहुत काम आ सकते हैं।


सवालः टैक्स की देनदारी नहीं बनती है, लेकिन वित्त वर्ष 2012-13 के आयकर रिटर्न भरने में 5 रुपये की गड़बड़ी हुई है। धारा 143ए के तहत आयकर विभाग ने जानकारी दी है, क्या दोबारा रिटर्न भरना चाहिए?


सुभाष लखोटियाः आयकर कानून की धारा 288ए के तहत ये 5 रुपये की रकम 10 रुपये मानी जाएगी और धारा 288बी के तहत आपको 10 रुपये का रिफंड मिलेगा। आपको रिटर्न दोबारा भरने की जरूरत नहीं पड़ेगी।


सवालः 2009-2012 के दौरान जिस कंपनी में काम करता था वो बंद हो चुकी है, एम्पलॉयर ने कभी टैक्स नहीं काटा साथ ही कभी फॉर्म 16 भी नहीं मिला है। अब क्या करें 3 साल के टैक्स का क्या होगा?


सुभाष लखोटियाः टीडीएस काटने की जिम्मेदारी एम्पलॉयर की होती है, अगर आपके एम्पलॉयर ने टैक्स नहीं काटा है तो आप खुद इंकम टैक्स रिटर्न भर दें। पे स्लिप के जरिए सैलरी ब्रेकअप के आधार पर टैक्स देना होगा। जो टैक्स बनता है उसका भुगतान करें।


सवालः एचयूएफ के कर्ता की मां ने 1 लाख रुपये एचयूएफ को गिफ्ट दिया है। इस रकम को माइनर बच्चे के पीपीएफ अकाउंट में जमा किया जाए तो क्या टैक्स बचेगा?


सुभाष लखोटियाः एचयूएफ को मिले गिफ्ट को आमदनी माना जाएगा। बतौर गिफ्ट बस 50,000 रुपये तक की रकम पर ही टैक्स छूट मिलेगी। बाकी बचे 50,000 रुपये पर टैक्स देना होगा। अगर एचयूएफ अपने पैसे से माइनर के लिए अकाउंट खोलता है तो इसके जरिए 80सी के तहत टैक्स छूट के लिए माइनर बेटे के पीपीएफ अकाउंट में पैसा जमा किया जा सकता है।


सवालः पिता से पॉकेट मनी मिलती है जिसे बचाकर 10,000 रुपये जमा कर लिए हैं। क्या इस रकम पर टैक्स की देनदारी बनेगी?


सुभाष लखोटियाः पॉकेट मनी से होने वाली आमदनी पर टैक्स लगेगा और इसे माता पिता की आमदनी में जोड़ दिया जाएगा। साल में पॉकेट मनी से होने वाली आय पर 1500 रुपये तक की छूट मिल सकती है। माइनर को सालाना 1500 रुपये से कम आमदनी पर टैक्स नहीं लगेगा। आप 10,000 रुपये की रकम को बैंक में जमा कर दें। इस पर 1500 रुपये तक का ब्याज मिलेगा तो ये रकम आयकर की दर के बाहर हो जाएगी और आपको कोई टैक्स नहीं देना होगा।


सवालः पिता को मिलने वाली सरकारी पेंशन में बढ़ोतरी हुई है। बकाए का भुगतान जून-जुलाई 2012 में हुआ है। इसपर टैक्स कैसे लगेगा और क्या धारा 89 का फायदा मिल सकता है?


सुभाष लखोटियाः धारा 89 के तहत बकाए पेंशन की रकम को हर साल के हिसाब से बांटा जा सकता है। 6 साल पहले मिले ब्याज को इंकम में जोड़ने की जरूरत नहीं है।


सवालः बॉन्ड में किए हुए निवेश पर रिटर्न मिलना है, इस निवेश पर टैक्स की देनदारी कैसे बनेगी?


सुभाष लखोटियाः 1 साल से ज्यादा के आपके निवेश से हुई आमदनी को लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स माना जाएगा और इस पर इन्कम टैक्स नहीं लगेगा।


सवालः कैपिटल गेन अकाउंट के पैसों से प्लॉट खरीदें या फ्लैट? अकाउंट में 40 लाख रुपये हैं क्या समय सीमा होनी चाहिए?


सुभाष लखोटियाः कैपिटल गेन अकाउंट के पैसों से प्लॉट या फ्लैट खरीद सकते हैं। लेकिन एक बात का ख्याल रखना होगा कि प्लॉट बेचकर मिली रकम का निवेश 2 साल के भीतर हो जाना चाहिए। अगर आपने प्लॉट खरीदा है तो 3 साल के भीतर घर तैयार करें। प्लॉट खाली है तो टैक्स छूट नहीं मिलेगी। और अगर बिल्डर से फ्लैट खरीदा है तो 2 साल के भीतर घर का पजेशन आपको मिल जाना चाहिए वर्ना टैक्स छूट का लाभ नहीं मिल पाएगा। 


सवालः खेती की पुश्तैनी जमीन बेचकर दो बेटों में पैसे बांटे जाएं तो इस राशि पर टैक्स बचाने के लिए बेटे क्या कर सकते हैं?


सुभाष लखोटियाः जमीन बेचकर मिले पैसे पर कैपिटल गेन टैक्स की देनदारी के बाद ही पैसों को बंटवारा होना चाहिए। इस राशि में से 50 लाख रुपये तक कैपिटल बॉन्ड में निवेश किया जा सकता है। पिता से मिली गिफ्ट की राशि पर टैक्स नहीं देना होगा।


वीडियो देखें