Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

कैसी हो एनआरआई की फाइनेंशियल प्लानिंग

प्रकाशित Wed, 19, 2012 पर 12:45  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जाने माने फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पांड्या ने एनआरआई की फाइनेंशियल प्लानिंग से जुडी कुछ अहम बातों पर जानकारी दी।


जब एनआरआई भारत में निवेश करें तो कुछ बातों का ख्याल रखें। निवेश करने से पहले अपने साथ पैन कार्ड, आईडी प्रूफ, पते का प्रूफ जैसे बैंक की स्टेटमेंट या पासपोर्ट होना चाहिए। पहले किए हुए निवेश की सारी जानकारी दी जानी चाहिए। इसके अलावा सभी दस्तावेजों को सत्यापित करना भी जरूरी होता है।


अगर एनआरआई ने केवाईसी कराया हुआ हो तो नया निवेश करने से पहले कुछ सामान्य प्रक्रिया अपनानी पड़ती है और इसके बाद आसानी से निवेश किया जा सकता है।


एनआरआई के पास डेट में निवेश करने के लिए जो विकल्प मौजूद हैं उनमें बैंक एफडी, एनआरई और एनआरओ फिक्स डिपॉजिट हैं। म्यूचुअल फंड में भी निवेश कर सकते हैं जिसका पैसा एनआरई या एनआरओ अकाउंट से आता हो। एनआरआई शेयरों में भी निवेश कर सकते हैं। डेट म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं। साथ ही नॉन कन्वर्टिबल डिबेंचर या टैक्स फ्री बॉन्ड में निवेश कर सकते हैं। एनआरआई ऑनलाइन माध्यम से निवेश कर सकते हैं। एक बात का ख्याल रखना चाहिए कि जिस एनआरई या एनआरओ अकाउंट से पैसा भेजा या लिया जा रहा है, वो चालू हालत में होना चाहिए।


अर्णव पांड्या के मुताबिक एनआरआई को निवेश करते समय करेंसी में होने वाली उतार चढ़ाव पर ध्यान रखना चाहिए। अगर आप पैसा भारत में लगा रहे हैं और भारत में ही उपयोग कर रहे हैं तो आपको फॉरेन करेंसी के उतार चढ़ाव का इतना असर नहीं होगा लेकिन अगर आप पैसा विदेश ले जा रहे हैं तो आपको विदेशी मुद्रा के उतार चढ़ाव का असर हो सकता है।


एनआरआई को निवेश करने से पहले सभी जानकारी ले लेनी चाहिए। आप निवेश पर लगने वाले टैक्स के बारे में पता करें और एनआरआई पर लगने वाले टैक्स की सभी जानकारी रखें। अपने पोर्टफोलियो में डाइवर्सिफिकेशन रखें और सभी तरह के ऐसेट क्लास शामिल करें।


एनआरआई बैंक अकाउंट, म्यूचुअल फंड अकाउंट को अपडेट करते रहें और देखते रहें कि कहां किस दस्तावेज को जमा करना के जरूरत है। ऐसा ना करने पर अकाउंट फ्रीज हो सकता है।


वीडियो देखें