Moneycontrol » समाचार » बीमा

इंश्योरेंस सवालों पर मनोज असवानी के जवाब

प्रकाशित Sat, 19, 2013 पर 12:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

माइ इंश्योरेंस क्लब डॉटकॉम के को फाउंडर मनोज असवानी ने इंश्योंरेस से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए जो आपके बहुत काम आ सकते हैं।


सवालः इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के बाद अगर कंपनी डूब जाती है तो पॉलिसी होल्डर के पैसे का क्या होगा?


मनोज असवानीः सभी इंश्योरेंस कपंनी पर रेगुलेटर आईआरडीए की कड़ी नजर रहती है। कंपनी के रिजर्व, खर्च और सेविंग सब को लगातार मॉनिटर किया जाता है। किसी इंश्योरेंस कंपनी के बंद होने या दिवालिया होने की आशंका बहुत कम होती है। लेकिन अगर किसी हालात में कंपनी बंद होती है, तो आईआरडीए दखल दे कर कंपनी के कैश रिजर्व संभालती है। आईआरडीए दिवालिया कंपनी का पोर्टफोलियो किसी और कंपनी को संभालने को दे सकती है। इससे पॉलिसी होल्डर का पैसा नहीं डूबता है।


सवालः मेरे पास 7 पॉलिसी हैं, एलआईसी जीवन साथी, एलआईसी अनमोल जीवन, एलआईसी जीवन सुरभि, एलआईसी समृद्धि प्लस, एलआईसी मार्केट प्लस 1(2)और आईसीआईसीआई प्रू लाइफ स्टेज अश्योर प्लान हैं। ये पॉलिसी रिटायरमेंट, बेटी की पढ़ाई और शादी के लिए ली हैं। क्या इतनी पॉलिसी ठीक है या फिर और भी लूं?


मनोज असवानीः आप एलआईसी जीवन साथी और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ स्टेज पॉलिसी को बंद करें। एलआईसी अनमोल जीवन एक टर्म/प्रोटेक्शन प्लान है। टर्म के दौरान पॉलिसी होल्डर की मौत होने पर नॉमिनी को सम अश्योर्ड मिलता है। पॉलिसी की मौच्योरिटी पर कुछ नहीं मिलता है। आप इस पॉलिसी में बने रह सकते हैं।


एलआईसी जीवन सुरभि एक नॉन यूनिट लिंक्ड- मनी बैक प्लान
है। ये 15, 20 और 25 साल के टर्म में उपलब्ध है। 15 साल की पॉलिसी है तो प्रीमियम 12 साल तक ही देना होता है, कवर 15 साल तक चलता है। चौथे और आठवें साल में सम अश्योर्ड का 30-30 फीसदी मिलता है, 12वें साल में 40 फीसदी मिल जाता है। 15वें साल में बोनस दिया जाता है। 3 साल तक प्रीमियम देने पर पॉलिसी में पेड-अप वैल्यू बन जाती है। 3 साल के बाद सरेंडर करने पर गारंटीड सरेंडर वैल्यू मिलेगी। गारंटीड सरेंडर वैल्यू कुल प्रीमियम के 30 फीसदी में से पहले साल का प्रीमियम निकालने के बाद होती है। इस पॉलिसी को जारी रख सकते हैं।


एलआईसी समृद्धि प्लस एक अधिकतम एनएवी गारंटी वाला यूलिप है। इसमें सिर्फ 5 साल के लिए प्रीमियम देना है और 5 साल के बाद कुछ पैसे निकालने की सहूलियत मिलती है। हालांकि 1 साल में सिर्फ 2 बार ही पैसे निकाल सकते हैं और 5 साल के बाद सरेंडर कर सकते हैं। आप इस पॉलिसी में भी बने रहें।


एलआईसी जीवन साथी एक ये ज्वाइंट लाइफ एनडाउमेंट पॉलिसी है जिसमें पति या पत्नी के मौत पर, दूसरे पार्टनर को सम अश्योर्ड मिलता है। एक पार्टनर के मरने पर भी पॉलिसी जारी रहती है। इस पॉलिसी को जारी रखा जा सकता है।


आपको कोई इंवेस्टमेंट-इंश्योरेंस पॉलिसी लेने की जरूरत नहीं हैं। लेकिन आप 75 लाख या 1 करोड़ रुपये कवर का टर्म प्लान ले लें। अवीवा आई लाइफ या एगॉन आई टर्म में से कोई भी टर्म प्लान ले सकते हैं।


सवालः रिलायंस लाइफ मनी मल्टीप्लायर प्लान के बारे में जानकारी दें।


मनोज असवानीः रिलायंस लाइफ मनी मल्टीप्लायर प्लान एक ट्रेडिशनल एनडाउमेंट प्लान है। पॉलिसी होल्डर के बाद नॉमिनी को दोगुना सम अश्योर्ड मिलता है। इसमें गारंटीड लॉयल्टी एडीशन होता है, जो हर साल बढ़ता है। पॉलिसी मैच्योर होने पर, सम अश्योर्ड के साथ गारंटीड लॉयल्टी एडीशन और गारंटीड मैच्योरिटी एडीशन मिलता है। ये एक अच्छी पॉलिसी हैऔर आप इस पॉलिसी को खरीद सकते हैं।


सवालः एलआईसी से टर्म प्लान लेने का क्या बेनिफिट है? पिता जी (56 साल), मां (48 साल) के लिए मेडिकल पॉलिसी लेनी है। मां का किडनी ट्रांसप्लांट हो चुका है। दोनें के लिए कौन सी पॉलिसी लूं?


मनोज असवानीः एलआईसी का टर्म प्लान, अमूल्य जीवन या अनमोल जीवन ले सकते हैं। हालांकि अगर आपको सस्ता टर्म प्लान लेना है तो ऑन लाइन टर्म प्लान काफी सस्ते में मिल जाता है। आप एचडीएफसी क्लिक टू प्रोटेक्ट या अवीवा आई लाइफ ले सकते हैं।


माता-पिता के लिए हेल्थ प्लान लेने के लिए अपोलो म्यूनिख ईजी हेल्थ, स्टार हेल्थ फैमिली ऑप्टिमा या ओरिएंटल इंश्योरेंस मेडिक्लेम ले सकते हैं। हालांकि ध्यान रखें कि मां की बीमारी इन हेल्थ प्लान में कवर नहीं होगी।


सवालः मर्चेंट नेवी में काम करता हूं। टर्म प्लान लेना है, लेकिन कई कंपनियों ने देने से मना कर दिया। जो दे रहे भी रहे हैं, वो ये कहते हैं कि जब शिप पर रहूंगा तब कवर लागू नहीं होगा। एक-दो कंपनी जैसे एचडीएफसी एसएल 22,000 रुपये साल पर 2 करोड़ का कवर ऑफर कर रही हैं। क्या करना चाहिए?


मनोज असवानीः कंपनी को अगर लगे कि रिस्क ज्यादा है, तो वो टर्म प्लान देने से मना कर सकती हैं। कई कंपनियों को मर्चेंट नेवी की नौकरी काफी रिस्की लगती है। टर्म प्लान देना, ना देना, कंपनी तय करती है। अगर आप को मिल रहा है तो आप एचडीएफसी या एडेलवाइज किसी का भी टर्म प्लान ले सकते हैं।


वीडियो देखें