Moneycontrol » समाचार » बजट प्रतिक्रियाएं

कैसा रहा रियल एस्टेट सेक्टर पर बजट का असर

प्रकाशित Thu, 07, 2013 पर 11:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

रियल एस्टेट सेक्टर के लिए ये बजट कैसा रहा, और सेक्टर के लिए आगे कैसी तस्वीर दिख रही है, आनंद राठी फाइनेंशियल सर्विसेज के विवेक गुजराती ने इसका विश्लेषण किया है।


विवेक गुजराती के मुताबिक नए घरों के लिए 25 लाख रुपये तक के लोन पर 1 लाख रुपये तक की छूट नए घर खरीदारों के लिए अच्छी कही जा सकती है। टियर2 और टियर3 शहरों में घर खरीदारों के लिए ये छूट काफी अहम रहेगी। छोटे डेवलपरों के लिए ये अच्छी खबर है।


पहले घर के लिए 25 लाख रुपये तक के लोन पर धारा-24 के तहत 1 लाख रुपये की अतिरिक्त छूट मिल सकेगी। ये खबर पूर्वांकरा, एचडीआईएल,  अंसल प्रोपर्टीज प्रेस्टीज एस्टेट्स, अनंत राज इंडस्ट्रीज, शोभा डेवलपर्स के लिए फायदेमंद रहेगी।


विवेक गुजराती के मुताबिक 50 लाख रुपये से ऊपर की संपत्ति खरीदने बेचने पर 1 फीसदी टीडीएस लगाया जाना पारदर्शिता को बढ़ाएगा। एबेटमेंट रेट को घटाने से 0.6 फीसदी का अतिरिक्त सर्विस टैक्स आएगा जिसका मामूली असर ग्राहकों पर पडे़गा। इसका असर डेवलपरों पर नहीं पडे़गा।


2000 वर्गफुट एरिया और 1 करोड़ रुपये से महंगे घरों पर अबेटमेंट रेट 75 फीसदी से घटकर 70 फीसदी किया गया है। जो डीएलएफ, महिंद्रा लाइफस्पेस के लिए नकारात्मक रहेगा।


रूरल हाउसिंग फंड का आवंटन 4000 करोड़ रुपये से बढाकर 6000 करोड़ रुपये किया गया है। ये एचडीआईएल, यूनिटेक, अंसल प्रॉपर्टीज के लिए फायदेमंद रहेगा।


विवेक गुजराती के मुताबिक अगर आगे चलकर ब्याज दरों में कटौती होती है तो घरों की मांग में सुधार देखने को मिल सकता है। निवेशक हाउसिंग कंपनियों में निवेश कर सकते हैं क्योंकि मांग बढ़ने का सबसे ज्यादा फायदा इन्हीं कंपनियों को मिलेगा।


डीएलएफ में 1 साल में 300 रुपये का लक्ष्य मिल सकता है। 1 साल में डीएलएफ में 10-12 फीसदी की तेजी देखने को मिल सकती है। इंडियाबुल्स रियल एस्टेट में 1 साल में 40-50 फीसदी रिटर्न मिल सकता है और शेयर 100-120 रुपये तक जा सकता है। एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस में 1 साल में 312-315 रुपये का लक्ष्य हासिल किया जा सकता है।


वीडियो देखें