Moneycontrol » समाचार » निवेश

टैक्स बचाने के लिए कहां करें निवेश

प्रकाशित Tue, 16, 2013 पर 11:03  |  स्रोत : Moneycontrol.com

निवेश करना और इसका रिटर्न मिलना आपस में अनुशासनात्मक रुप से जुड़े हुए हैं। अपने निवेश में अनुशासन रखने से विफल रहने पर आपके लंबी अवधि के वित्तीय लक्ष्यों को हानि पहुंच सकती है। आपको टैक्स से बचने के लिए सुनियोजित तरीके से निवेश करना चाहिए।


आधारभूत बातों का ख्याल रखें


निवेश पोर्टफोलियो के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग सबसे अहम होती है। अगर बिना फाइनेंशिल प्लानिंग के निवेश करेंगे तो इस बात की काफी संभावना है कि आपके आर्थिक लक्ष्य पूरे ना हो पाएं। ऐसा नहीं हो सकता कि आप कोई फाइनेंशिल प्लानर ले आएं और वो आनन फानन मे आपकी सारी फाइनेँशियल प्लानिंग कर देगा। इस प्रक्रिया में भी समय लगता है। इसलिए ऐसे आर्थिक उत्पादों से बचें जिनकी आपको जानकारी नहीं है।


बाजार में कई वित्तीय उत्पाद हैं जैसे रेगुलर लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी जिनका 15-20 साल का टर्म होता है। कुछ समय के लिए इनसे दूर रहें। आपको इस तरह के उत्पाद के बारे में समझने के लिए समय चाहिए और विशेषज्ञों की सलाह भी लेनी होगी। वहीं अगर आपकी कैलकुलेशन में कुछ गड़बड़ हो जाए तो आप लंबे समय के लिए गलत उत्पाद ले सकते हैं। इसलिए अपनी निवेश योजना को साधारण रखें जो समझने में आसान हो और वित्तीय उत्पादों से जब चाहें तब निकल सकें।  
 
टैक्स छूट का लाभ


कई लोग सिर्फ 1 लाख रुपये के बारे में सोचते रहते हैं। ऐसे लोगों को सेक्शन 80सी के तहत निवेश करके 1 लाख रुपये तक की टैक्स छूट ले लेनी चाहिए। लेकिन कई बार वास्तविकता इससे अलग होती है। कुछ मामलों में आपकी कर योग्य आय कम हो सकती है या कई बार आप पहले से कुछ निवेश कर चुके होते हैं या अपनी पुरानी लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी का प्रीमियम चुकता कर चुके होते हैं। इस तरह के सब निवेश को जांच लें और तब आखिरी कर योग्य आय को देखें। हिसाब लगाएं कि टैक्स छूट का लाभ लेने के लिए आपको कितना निवेश करना होगा। इसके अलावा आप 15,000 रुपये (सीनियर सिटीजन 20,000 रुपये) की टैक्स छूट का लाभ भी ले सकते हैं अगर आप हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम अदा कर रहे हैं। 
 
फिक्स्ड इनकम


टैक्स बचाने के लिए आप पोस्ट ऑफिस में मिलने वाले नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश कर सकते हैं। इसमें 5 साल के लिए आपको 8.6 फीसदी का ब्याज मिल सकता है। हाल ही में सरकार ने घोषणा की है कि एनएससी पर मिलने वाले ब्याज दर में 1 अप्रैल 2013 से 0.1 फीसदी की कटौती की गई है। इसलिए इसमें अभी निवेश करें और टैक्स भी बचाएं। इसके अलावा आप टैक्स सेविंग बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट में भी निवेश कर सकते हैं। इसमें 5 साल के लिए आप 8.5 फीसदी से 9 फीसदी तक का ब्याज हासिल कर सकते हैं। अगर आप युवा हैं तो आप पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) अकाउंट भी खोल सकते हैं। एक बात ध्यान रखें कि पीपीएफ अकाउंट कम से कम 15 साल के लिए खोला जाना चाहिए। ये कम जोखिम उठाने वाले निवेशकों के लिए अच्छा विकल्प है। अगर आप जोखिम उठा सकते हैं तो आप म्यूचुअल फंड में भी निवेश कर सकते हैं।


इक्विटी


पिछले कुछ समय से शेयर बाजार में गिरावट है और एक निवेशक के लिए शेयरों के वैल्यूएशन आकर्षक हो गए हैं। आप 1 लाख रुपये तक का निवेश इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम में कर सकते हैं जो टैक्स सेविंग म्यूचुअल फंड के रूप में जाने जाते हैं। ये स्कीमें 3 साल के लॉक इन पीरियड वाली होती हैं और इक्विटी में निवेश करती हैं। अगर आप पहली बार निवेश कर रहे हैं और आपकी आमदनी 10 लाख रुपये से कम है तो आप राजीव गांधी इक्विटी सेविंग स्कीम में भी निवेश कर सकते हैं।


अप्रैल 2013 आपके लिए अगले साल की टैक्स प्लानिंग करने के लिए एकदम सही समय है। इसलिए देर ना करें और टैक्स बचाने के लिए यहां बताए गए विकल्पों में से कुछ चुन कर फौरन निवेश कर लें।


ये लेख क्रेडिट विद्या के को-फाउंडर और डायरेक्टर राजीव राज द्वारा लिखा गया है।