टैक्स गुरु से जानें कैसे भरें टैक्स रिटर्न -
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु से जानें कैसे भरें टैक्स रिटर्न

प्रकाशित Thu, 16, 2013 पर 15:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स से जुड़े आपके हर सवाल का जबाव जानिए टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया जी से। 


सवाल : इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से पहले कौन-से कागजात तयार रखने चाहिए?


सुभाष लखोटिया : आईटी रिटर्न दाखिल करने के लिए आपकी आमदनी की सारी जानकारी इकट्ठा करनी चाहिए। बैंक से फॉर्म 16ए में ब्याज से आय और टीडीएस सर्टिफिकेट की जानकरी लेनी चाहिए। इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से पहले अन्य आय का ब्योरा, टैक्स फ्री इनकम का ब्यौरा और धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट के फायदे के लिए निवेश का ब्यौरा भी जरूरी है। इसके अलावा करदाताओं को टैक्स छूट पाने के लिए दान चंदा आदि का ब्यौरा और फॉर्म 26एएस की कॉपी जिसमें टीडीएस का ब्यौरा हो उसे तैयार रखना चाहिए।  


सवाल : आईटीआर 1 यानि सहज फॉर्म किनके लिए है और किन बातों का ध्यान रखें?       


सुभाष लखोटिया : ज्यादातर करदाताओं के लिए बेहतर होगा कि वो अपना इनकम टैक्स रिटर्न नया फॉर्म सहज-आईटीआर 1 में भरें। सैलरी, पेंशन, प्रॉपर्टी से जिनकी इनकम आ रही है वे सभी करदाता सहज-आईटीआर 1 भर सकते हैं। इसके अलावा ऐसे व्यक्ति जो पत्नी या नाबालिग की इनकम क्लब कर रहे है वे भी इस रिटर्न फॉर्म का लाभ उठा सकते हैं।     


सवाल : भारत में बसने के बाद कब तक एनआरआई और एनआरओ अकाउंट रखा जाएं? क्या उसके ब्याज पर टैक्स देना होगा?  एनआरआई पर टैक्स की देनदारी कैसे बनती है? 


सुभाष लखोटिया : एनआरआई अकाउंट पर टीडीएस नहीं कटता है। भारत में बसने के बाद एनआरआई और एनआरओ अकाउंट को बंद करना चाहिए और भारत में बचत खाता खोलना चाहिए।


भारत के आने बाद आप विदेश में पैसा रख सकते हैं। लेकिन ध्यान रखें कि जो इनकम हो उसे भारत में इनकम टैक्स रिटर्न में जरूर दिखलाएं। अगर बच्चे बालिग हैं तो मां-बाप से मिले पैसे बच्चों की इनकम में जुड़ेंगे और बच्चे यूएसए या यूएसई अकाउंट में कहीं पर भी रख सकते हैं।    

सवाल :
प्रॉपर्टी के कागजात पर पत्नी का नाम जोड़ना चाहता हूं। मुझे इस प्रक्रिया के लिए प्रॉपर्टी वैल्यू पर कितना टैक्स देना पड़ेगा?

सुभाष लखोटिया :
अगर आप अपनी प्रॉपर्टी के कागजात में पत्नी का नाम जोड़ना चाहते है तो आपको कंन्वेयंस डीड के जैसे डीड करनी पड़ेगी, स्टैम्प ड्यूटी देनी पड़ेगी। तो बेहतर होगा कि आप इस प्रॉपर्टी में पत्नी का नाम ना जोड़े, स्टैम्प ड्यूटी का खर्च ना करें क्योंकि आयकर कानून में फिर भी प्रॉपर्टी पूरी की पूरी आपकी कहलाएगी क्योंकि पैसे आपने दिए है। लिहाजा दूसरी प्रॉपर्टी पत्नी के नाम पर खरीदें।


सवाल : 2 मकान है, क्या दोनों के होम लोन पर टैक्स छूट मिल सकती है?   


सुभाष लखोटिया : दूसरे मकान के लोन पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी। केवल पहले मकान पर टैक्स छूट जारी रहेगी। 


सवाल : सुगम आईटीआर 4एस किनके लिए है?        


सुभाष लखोटिया : धारा 44 एडी या 44 एआई के तहत व्यापार से इनकम होने पर, सैलरी या पेंशन से कमाई होने पर सुगम आईटीआर 4एस के इनकम टैक्स रिटर्न भरना चाहिए। एक प्रॉपर्टी से या एक से ज्यादा प्रॉपर्टी से, घुड़दौड़ या लॉटरी और कैपिटल गेन्स से जिनकी इनकम होती है वे करदाता आईटीआर 4एस का लाभ उठा सकते है। 5000 रुपये से ज्यादा टैक्स फ्री इनकम होने पर और कमीशन, ब्रोकरेज से कमाई होने पर सुगम आईटीआर 4एस फॉर्म भर सकते हैं।    


सवाल : क्या 3 बच्चों की पढ़ाई पर टैक्स छूट मिल सकता है? 


सुभाष लखोटिया : धारा 80 सी के तहत केवल 2 बच्चों के लिए ही टैक्स छूट मिलेगी। 


सवाल : आर्मी ऑफिसर को ट्रेनिंग दौरान मिले स्टाइपेन्ड पर टैक्स देना होगा और इनकम पर टैक्स कैसे बचाया जा सकता है?


सुभाष लखोटिया : आर्मी ऑफिसर को ट्रेनिंग दौरान मिले स्टापेन्ड पर टैक्स लगेगा। लेकिन यह टैक्स पीपीएफ या इंश्योरेंस में निवेश से बचाया जा सकता है।


धारा 80 सी के तहत आने वाली स्कीम में 30,000 निवेश करें। निवेश के बाद आपकी टैक्सेबल इनकम 2.2 लाख रुपये होगी, जिस पर कोई टैक्स नहीं देना होगा।


सवाल : 10,000 रुपये थर्ड पार्टी ट्रांसफर के जरिए मां को देते हैं क्या इस रकम पर टैक्स छूट मिलेगी? 


सुभाष लखोटिया : थर्ड पार्टी ट्रांसफर के जरिए मां को दिए गए पैसे पर कोई टैक्स छूट नहीं मिलेगा।  

सवाल : हेल्थ चेकअप के अंडर क्या-क्या आता है? और इस पर टैक्स छूट का फायदा कैसे मिल सकता है?


सुभाष लखोटिया : प्रीवेंटिव हेल्थ चेकअप पर धारा 80 डी के तहत 5000 रुपये तक की छूट मिलती है। हार्ट चेकअप अगर अस्पताल के प्रिवेंटिव हेल्थ प्रोग्राम के दायरे में हैं तो टैक्स छूट मुमकिन है।


सवाल : एडवांस टैक्स नहीं भरा है जानना चाहता हूं 280 भरते वक्त कौन-से बॉक्स में निशान लगाएं?


सुभाष लखोटिया : वरीष्ट नागरिकों को एडवांस टैक्स भरने की जरूरत नहीं है। इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते ही आपका टैक्स सेल्फ असेसमेंट टैक्स मानाजाएगा।


सवाल : एचआरए का क्लेम कैसे कर सकते है?


सुभाष लखोटिया : अगर आप पत्नी को किराए का भुगतान कर रहे हैं तो एचआरए क्लेम कर सकते हैं। 



वीडियो देखें