Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

पहले बचत, फिर खर्च की फाइनेंशियल प्लानिंग

प्रकाशित Sat, 18, 2013 पर 12:40  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पहले बचत, फिर खर्च अगर ये फॉर्मूला अपना लिया जाए तो अपनी जिंदगी के लक्ष्यों को पाना आसान हो जाएगा। हमारी यही कोशिश होती है कि हम आपको कुछ ऐसी बातें बता सकें जिन्हें अपनाकर आप अपनी निवेश की गाड़ी सही ट्रैक पर आगे बढ़ा पाएं। आज हमारा फोकस है फाइनेंशियल प्लानिंग पर और सवालों के जवाब देंगे ट्रांसेंड कंसल्टेंसी के डायरेक्टर कार्तिक झवेरी।


सवालः एलआईसी प्रीमियम 14,894 रुपये हर साल, म्युचुअल फंड में 8,000 रुपये हर माह, टर्म इंश्योरेंस प्रीमियम 7587 रुपये सालाना, मेडिक्लेम पॉलिसी 9097 रुपये सालाना, आरडी 1,000 रुपये हर माह, क्रिटिकल इलनेस पॉलिसी प्रीमियम 4214 रुपये सालाना, पत्नी की क्रिटिकल इलनेस पॉलिसी प्रीमियम 1685 रुपये सालाना, जनवरी 2014 में एफडी से 71,148 रुपये मिलेंगे।


म्युचुअल फंड पोर्टफोलियो में एचडीएफसी टॉप 200 में 3,000 रुपये बिड़ला सनलाइफ में 1,000 रुपये, एचडीएफसी इक्विटी में 3,000 रुपये, रिलायंस गोल्ड में 1,000 रुपये डाल रहा हूं। 2024 और 2028 में 5-5 लाख रुपये बेटी की शादी के लिए 2029 में 5 लाख रुपये बेटियों के लिए और 2033 में 50 लाख रुपये रिटायरमेंट के लिए चाहिए होंगे। मेरी फाइनेँशियल प्लानिंग कैसी होनी चाहिए?


कार्तिक झवेरीः आपका निवेश मौजूदा लक्ष्य हासिल करने के लिए काफी है। आगे के लिए पैसे का लक्ष्य बनाते वक्त महंगाई दर को ध्यान रखना जरूरी है। आप कम से कम 50 लाख रुपये कवर का टर्म इंश्योरेंस लें। आपको और आपकी पत्नी दोनों को क्रिटिकल इलनेस पॉलिसी लेने की जरूरत नहीं है तो इसे सरेंडर कर दें। आप वक्त के साथ निवेश बढ़ाते जाएंगे तो आपके पास बहुत पैसा जुट जाएगा। आपका म्यूचुअल फंड एलोकेशन काफी अच्छा है। आप एक बैलेंस्ड फंड में निवेश कर सकते हैं।  


सवालः पत्नी और मैं दोनों सरकारी नौकरी में हैं, 4.5 साल में रिटायरमेंट है और पत्नी 7 साल में रिटायर होंगी, परिवार में कोई हम पर निर्भर नहीं है। पीएफ अकाउंट में 80 लाख रुपये के अलावा मेरी कोई बचत नहीं है। पत्नी या मेरे नाम पर कोई इंश्योरेंस पॉलिसी नहीं है। मेरी आय 2 लाख रुपये हर माह, पत्नी की आय 40,000 रुपये हर माह है और खर्च 50,000 रुपये हर माह है। 80,000 रुपये हर माह निवेश कर सकता हूं, मेरी फाइनेंशियल प्लानिंग कैसी होनी चाहिए?


कार्तिक झवेरीः आपको इस वक्त इंश्योरेंस की जरूरत नहीं है क्योंकि आपकी उम्र काफी ज्यादा हो चुकी है। पीएफ और 80,000 रुपये हर माह की बचत मिलाकर आपके रिटायरमेंट तक करीब 1.6-2 करोड़ रुपये इकठ्ठे हो जाएंगे। 50,000 रुपये हर माह के खर्च के हिसाब से रिटायरमेंट बाद 85 साल तक की उम्र तक के लिए आपको 2-2.35 करोड़ रुपये की जरूरत होगी। 80,000 रुपये हर माह की बचत को इक्विटी/बैलेंस्ड फंड या किसी ऊंचे रिटर्न वाले डिपॉजिट में लगाने की सलाह है। रिटायरमेंट के बाद पीएफ के 50 फीसदी या ज्यादा हिस्सा ऊंचे रिटर्न जैसे इक्विटी एसेट में लगा सकते हैं। आप एचडीएफसी प्रूडेंस फंड, एचडीएफसी बैलेंस्ड फंड, आईसीआईसीआई के बैलेस्ड फंड में से कोई चुन कर निवेश कर सकते हैं। 


सवालः उम्र 25 साल है, मेरी आय 60,000 रुपये हर माह, पत्नी की आय 40,000 रुपये हर माह, खर्च 20,000 रुपये हर माह है। घर खरीदने की सोच रहे हैं, जिसकी 40,000 रुपये ईएमआई होगी, हम दोनों ने अब तक किसी लाइफ इंश्योरेंस में निवेश नहीं किया है। सुरक्षित भविष्य के लिए क्या करना चाहिए?


कार्तिक झवेरीः अपने और अपनी पत्नी के लिए 50-75 लाख रुपये का टर्म कवर लें। ऑनलाइन टर्म प्लान लें तो टर्म प्लान का प्रीमियम ज्यादा नहीं होगा। साथ ही अपने और पत्नी के लिए कम से कम 3-3 लाख रुपये का हेल्थ इंश्योरेंस लें। कंपनी की तरफ से मेडिक्लेम पॉलिसी मिली हो तब भी अलग से कवर खरीदें। लंबी अवधि में बेहतर रिटर्न के लिए म्यूचुअल फंड में अधिक से अधिक पैसे लगाएं। बचत का 30,000 रुपये हर माह इक्विटी म्यूचुअल फंड में डालें। 3,000 रुपये हर माह गोल्ड में लगाएं। इमरजेंसी फंड बनाने के लिए 7,000 रुपये हर माह का आरडी करें। 3 साल में आरडी से करीब 3 लाख रुपये जुट जाएंगे, ये पैसे इमरजेंसी के लिए रखें।


वीडियो देखें